Wednesday, October 20, 2021

Add News

Adab

उर्दू के क्लासिक अदब को जिंदा कर गए शम्सुर्रहमान फारूकी

यह सन् 1998 की बात है। तब मैं प्रकाशन विभाग से निकलने वाली उर्दू मैगजीन आज कल में सब एडिटर था और मेरे संपादक थे शम्सुर्रहमान फारूकी के भाई महबूब रहमान फारूकी साहब। तब शम्सुर्रहमान साहब का एक मजमून...
- Advertisement -spot_img

Latest News

लखीमपुर मामले से पैर खींचती नहीं दिखनी चाहिए सरकार: सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली। लखीमपुर खीरी किसान हत्याकांड पर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। कोर्ट ने अवकाश लेने से पहले...
- Advertisement -spot_img