Friday, October 22, 2021

Add News

birth

वैश्विक भूख सूचकांक: हम सोमालिया हो गए हैं, नेपाल और बांग्लादेश हमसे कहीं आगे

नरेंद्र दामोदर दास मोदी के नेतृत्व में भारत देश भुखमरी, ग़रीबी, कुपोषण, बाल मृत्यु दर में नित नई इबारत लिख रहा है। बता दें कि भूख और कुपोषण पर नज़र रखने वाली वैश्विक भुखमरी सूचकांक की वेबसाइट पर कल...

जन्मदिन पर विशेष: अपने जीवनकाल में ही किंवदंती बन गए थे फिदेल

फिदेल ऐलेजैंड्रो कास्त्रो रूज़ (जन्म: 13 अगस्त 1926) एक अमीर परिवार में पैदा हुए और कानून की डिग्री प्राप्त की। हवाना विश्वविद्यालय में अध्ययन करते हुए उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन की शुरूआत की और क्यूबा की राजनीति में एक...

वक्त के साथ गहरे होते जा रहे हैं घाव: सुधा भारद्वाज की बेटी मायशा

(भीमा कोरेगांव मामले में जेल में बंद एक्टिविस्ट और एडवोकेट सुधा भारद्वाज का आज जन्मदिन है। अमेरिका की नागरिकता ठुकराने और तमाम ऐशो-आराम की जिंदगी छोड़कर सुधा ने छत्तीसगढ़ के आदिवासी इलाकों में मजदूरों और आदिवासियों के बीच काम...

बेरोज़गार इंडिया ने बिगाड़ी, नरेंद्र मोदी की बर्थ डे पार्टी

बेरोज़गार इंडिया ने नरेंद्र मोदी की बर्थडे पार्टी बिगाड़ दी। शाम से ही #17Baje17Minute ट्रेंड कर रहा है। इससे पहले आज सुबह से लेकर शाम तक #nationalUnemploymentDay और #राष्ट्रीय_बेरोजगार_दिवस ट्विटर पर सबसे ऊपर ट्रेंड करता रहा। #nationalUnemploymentDay तीसरे नंबर...

अस्मिता की राजनीति ने कांग्रेस और नरसिंहराव के बीच की दूरी मिटाई

देश में परवान चढ़ चुकी अस्मिता की राजनीति के चलते आखिरकार दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिंह राव और कांग्रेस के बीच की दूरी मिट गई। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने पूर्व प्रधानमंत्री और अपनी...

जयंती पर विशेष: आज़ादी की लड़ाई की मुकम्मल नींव थे बिस्मिल

"सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है, देखना है ज़ोर कितना बाज़ु-ए-क़ातिल में है" भारत की आज़ादी के आंदोलन में ये पंक्तियां क्रांतिकारियों का मशहूर नारा बनीं। 1921 में बिस्मिल अज़ीमाबादी द्वारा लिखी जोश-ओ-खरोश से लबरेज़ इन पंक्तियों ने जिस...

मंटो की जयंती पर विशेष: जो बात की, खुदा की कसम लाजवाब की

उर्दू अदब के बेमिसाल अफसानानिगार सआदत हसन मंटो, आज ही के दिन यानी 11 मई, 1912 को अविभाजित भारत में लुधियाना के छोटे से गांव समराला में जन्मे थे। मंटो ने 43 साल की अपनी छोटी सी जिंदगानी में...

जन्मदिन पर विशेष: कार्ल मार्क्स- मानव इतिहास का महानतम क्रांतिकारी दार्शनिक

जिस एक व्यक्तित्व ने मानव इतिहास को सर्वाधिक प्रभावित किया, उस व्यक्तित्व का नाम कार्ल हेनरिख मार्क्स है। वे पहले दार्शनिक थे, जिन्होंने यह व्याख्यायित किया कि मानव इतिहास की गति एवं उसकी विकास यात्रा की जड़ में क्या...

21वीं सदी में डॉ. आंबेडकर की उपस्थिति

14 अप्रैल डॉ. भीमराव आंबेडकर का जन्म दिन है। यह 19वीं शताब्दी में जन्मे, 20वीं शताब्दी में भारत के करोड़ों लोगों की मुक्ति की आवाज बन जाने वाले और 21वीं सदी में भारतीय राजनीति की धुरी बन जाने वाले...

सावधान! अंबेडकर जयंती के मौक़े पर दलितों समेत अंबेडकरवादियों को बदनाम करने की साज़िश की आशंका

कोरोना लॉक डाउन के दौरान कल यानी 14 अप्रैल को डॉक्टर अंबेडकर की जयंती है। ऐसी स्थिति में स्वाभाविक है कि बहुजन समाज या अंबेडकरवादी लोग चाहे वह किसी भी जाति से ताल्लुक रखते हों भावनावश अंबेडकर की जयंती...
- Advertisement -spot_img

Latest News

सुप्रीम कोर्ट के मौजूदा जज की अध्यक्षता में हो निहंग हत्याकांड की जांच: एसकेएम

सिंघु मोर्चा पर आज एसकेएम की बैठक सम्पन्न हुई। इस बैठक में एसकेएम ने एक बार फिर सिंघु मोर्चा...
- Advertisement -spot_img