Friday, December 9, 2022

citizen

पहली नागरिक के रूप में कितना कारगर साबित होंगी मुर्मू

संविधान निर्माताओं समेत स्वाधीनता संग्राम से मंज-तपकर निकले सिद्धान्तनिष्ठ और खरे राजनेताओं की उस पुरानी पीढ़ी ने (जिसे यह पता था कि हमारा लोकतंत्र कितना बहुमूल्य है) यह कल्पना तक नहीं की होगी कि राज्यपाल और राष्ट्रपति जैसे पद...

श्रीलंका संकट के सबक

श्रीलंका के हालिया राजनैतिक संकट ने उस देश के नागरिकों के अलावा पड़ोसी देशों बल्कि पूरे विश्व के रहवासियों का ध्यान खींचा है। वहां के घटनाक्रम को देखकर दुनिया सन्न रह गई है। श्रीलंका एक ओर मानवीय त्रासदी से...

न्यायपालिका संविधान और सिर्फ संविधान के प्रति उत्तरदायी है: चीफ जस्टिस

चीफ जस्टिस एनवी रमना ने कहा है कि भारत में सत्ता में मौजूद कोई भी दल यह मानता है कि सरकार का हर कार्य न्यायिक मंजूरी पाने का हकदार है, जबकि विपक्षी दलों को यह उम्मीद होती है कि न्यायपालिका उनके...

नार्थ ईस्ट डायरी: दो बार भारतीय नागरिक घोषित, असम के परिवार को अब तीसरी बार साबित करना होगा कि वे भारतीय हैं

8 जून को, 66 वर्षीय नाता सुंदरी मंडल को सोनितपुर फॉरेनर्स ट्रिब्यूनल से एक नोटिस मिला, जिसमें दावा किया गया था कि वह 1 जनवरी, 1966 और 23 मार्च, 1971 के बीच अवैध रूप से भारत में प्रवेश कर...

ज्ञानवापी मसले पर नागरिकों, सामाजिक कर्ताओं ने की मंडलायुक्त से मुलाकात

वाराणसी। ज्ञानवापी मुद्दे पर उत्पन्न तनाव के संदर्भ में जनता से संवाद अभियान के अंतर्गत बनारस का प्रतिनिधिमंडल मंडलायुक्त से मिला और उन्हें सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को संबोधित ज्ञापन सौंपा। इस प्रतिनिधिमंडल में सामाजिक कार्यकर्ता, राजनीतिक दलों...

‘आधार’ के जिन्न की नई सौग़ात के बहाने नागरिक जीवन और अधिकारों पर सरकार का ताज़ा हमला

हाल ही में, 21 दिसंबर 2021 को, संसद में एक क़ानून पास किया गया जिसके प्रमुख प्रावधान के तहत वोटर कार्ड को 'आधार' से लिंक किया जाएगा। इस क़ानून को चुनाव क़ानून (संशोधन) विधेयक 2021 के नाम से जाना...

नॉर्थ-ईस्ट डायरी: नगालैंड संहार की घटना के बाद अफस्पा हटाने की आवाज हुई तेज

नगालैंड के मोन जिले में शनिवार को असम राइफल्स द्वारा उग्रवाद विरोधी अभियानों के दौरान नागरिकों की हत्या की घटना ने छह दशक से अधिक पुराने सशस्त्र बल (विशेष शक्ति) अधिनियम 1958 को वापस लेने की मांग को तेज...

ऑक्सीजन की कमी से मरे नागरिकों को पेड़ लगाने की नसीहत

अप्रैल-मई 2021 कोरोना की दूसरी लहर में देश के नागरिकों को ऑक्सीजन की कमी से लोगों को तड़पा तड़पाकर मारने वाली सरकार के पर्यावरण मंत्री रहे प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि हम जितने पेड़ लगाएं उतना ही बेहतर है।...

नागरिक इतने ‘अवांछनीय’ क्यों हो गये हैं?

दिल्ली-एनसीआर में दमघोंटू प्रदूषण के मामले पर सुनवाई करते हुए उच्चतम न्यायालय ने गत दिनों जिस तरह नौकरशाहों को फटकारा और पूछा कि अगर सब कुछ न्यायालय को ही करना है तो भला वे किसलिए हैं, वह सच पूछिये...

जज साहब! ये तो न्याय का मज़ाक़ है

(अभिनेता शाहरूख खान के बेटे आर्यन खान का मसला देश के नागरिकों और समाज के संवेदनशील तबके के लिए चिंता का विषय बनता जा रहा है। जिस तरह से बगैर किसी सबूत के आधार पर उसको गिरफ्तार किया गया...
- Advertisement -spot_img

Latest News

मुश्किल में बीजेपी, राहुल बना रहे हैं कांग्रेस का नया रास्ता

इस बार के चुनावों में सभी के लिए कुछ न कुछ था, लेकिन अधिकांश लोगों को उतना ही दिखने...
- Advertisement -spot_img