Thursday, October 28, 2021

Add News

Indira Gandhi

आखिर कौन बनाता है मुख्यमंत्री? केंद्रीय नेतृत्व, विधायक दल या फिर जनता?

तत्कालीन राष्ट्रपति नीलम संजीव रेड्डी ने एक बार कहा था कि पंडित नेहरू के समय मुख्यमंत्री नामजद नहीं होते थे। उनकी इस टिप्पणी के कुछ दिन बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी भोपाल आई थीं। उनकी पत्रकार वार्ता आयोजित थी।...

अधिकतम दिया, न्यूनतम लिया, मधु लिमये सा कौन जिया!

भारतीय समाजवादी आंदोलन के नायकों में से एक मधु लिमये का 99वां जन्मदिवस और उनका जन्म शताब्दी वर्ष भी आज से ही शुरू होगा। मधु लिमये भारतीय स्वाधीनता संग्राम के सेनानी और गोवा मुक्ति आंदोलन के नायकों में से...

टोपी का रंग और उसकी राजनीति

'विधान मंडल पहनावे अथवा भाषाओं को परिभाषित, निर्देशित अथवा  उपहासित करने का सभाकक्ष नहीं है।’ सत्तर के दशक की बात है। उत्तर प्रदेश विधानसभा में एक बड़े नेता नवागन्तुक सदस्यों के बोलने-बैठने के आचरण के विषय में भाषण कर...

राजनीति में मध्ययुगीन शब्दावली का प्रयोग और उसके निहितार्थ

एक जुमला चल निकला हैः ‘राजा अहंकारी हो गया है’। दुनिया की सबसे बड़े लोकतंत्र में प्रधानमंत्री को यह ‘राजा’ वाला खिताब क्या सचमुच बुरा लग रहा होगा? आधुनिक राज्य व्यवस्था के पद को मध्ययुगीन शब्दावली से नवाजना कायदे...

संविधान में समाजवाद और पंथनिरपेक्ष शब्द जोड़ना इंदिरा गांधी की बड़ी देनः शाहनवाज़ आलम

लखनऊ। अल्पसंख्यक कांग्रेस ने आज रविवार को उत्तर प्रदेश के सभी ज़िलों में संविधान चर्चा दिवस मनाया। अल्पसंख्यक कांग्रेस के प्रदेश चेयरमैन शाहनवाज़ आलम ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा 42वें संविधान संशोधन के ज़रिए संविधान की...

सुप्रीम कोर्ट 45 साल बाद परखेगा इमरजेंसी की संवैधानिकता, विवादों का पंडोरा बॉक्स खुलना तय

उच्चतम न्यायालय अब इस बात की जांच-पड़ताल करने जा रहा है कि 1975 में इंदिरा गांधी सरकार की लगाई हुई इमरजेंसी को क्या 'पूरी तरह असंवैधानिक' घोषित किया जा सकता है। एक 94 साल की महिला की याचिका पर...

प्रियंका गांधी का इंतजार कर रहा है नेहरु का पैतृक घर आनन्द भवन और स्वराज भवन

“ये घर हमारे लिए और अन्य बहुत से लोगों के लिए उस सब कुछ का प्रतीक बन गया जिसे हम जीवन में मूल्यवान मानते हैं।यह एक ईंट और कंक्रीट की इमारत और एक निजी संपत्ति से बहुत मूल्यवान है।ये...

क्या है मीसा और कौन है पहला मीसाबंदी ?

आज के 45 वर्ष पूर्व 25-26 जून 1975 को इंदिरा गांधी ने देश में इमरजेंसी लगाया था। इमरजेंसी का नाम आते ही मीसा की भी चर्चा होने लगती है। क्योंकि आपातकाल की घोषणा के तुरंत बाद से ही देश...

‘इस समय’ और ‘उस समय’ का ‘आपातकाल’

क्या इंदिरा गांधी की इमरजेंसी (आपातकाल) का कुख्यात दौर मौजूदा मोदी-शाह रेजीम से भी बुरा था? इमरजेंसी और फ़ासीवाद में क्या फ़र्क़ है? इमरजेंसी के दौरान आरएसएस की भूमिका क्या थी? क्या इमरजेंसी का तात्कालिक और दूरगामी सबसे ज़्यादा...
- Advertisement -spot_img

Latest News

भाई जी का राष्ट्र निर्माण में रहा सार्थक हस्तक्षेप

आज जब भारत देश गांधी के रास्ते से पूरी तरह भटकता नज़र आ रहा है ऐसे कठिन दौर में...
- Advertisement -spot_img