Estimated read time 1 min read
बीच बहस

तथ्यों से परे है कच्चाथीवु पर विवाद और नेताओं की बयानबाजी 

एक वक्त था जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दक्षिण तट के दोनों ओर मछुआरों के मुद्दों का समाधान चाहते थे। कम से कम 2015 में अपनी [more…]

Estimated read time 1 min read
संस्कृति-समाज

जयंती पर विशेष: क्या कांग्रेस को कामराज जैसे किसी नये प्लान की जरूरत है?

कांग्रेस जब भी किसी संकट का सामना करती है, तो वह अतीत में समाधान खोजती है। 59 वर्ष पहले मद्रास के तत्कालीन मुख्यमंत्री कुमारस्वामी कामराज [more…]

Estimated read time 1 min read
ज़रूरी ख़बर

प्रतिबद्ध न्यायपालिका: इंदिरा गांधी का आपातकालीन सपना मोदी राज में हो रहा है साकार

करीब साढ़े चार दशक पहले आपातकाल के दौरान तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने तो महज मंशा जाहिर की थी कि न्यायपालिका को सरकार के प्रति [more…]

Estimated read time 1 min read
राजनीति

प्रधानमन्त्री जी, 56 इंच सीने का दावा आसान है उस पर खरा उतरना मुश्किल!

‘बड़ा शोर सुनते थे पहलू में दिल का /जो चीरा तो इक क़तरा-ए-ख़ूँ न निकला’ यह शेर अपने 56 इंच सीने वाले साहब पर पूरी [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

बांग्लादेश का मुक्ति संघर्ष: इंदिरा गांधी ने हर मोर्चे पर सफलता हासिल की थी

0 comments

जब सोवियत संघ के महान नेता स्टालिन की मृत्यु हुई थी तब तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए कहा था कि स्टालिन was [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

बेहद दिलचस्प है ‘गूंगी गुड़िया’ से कुशल राजनेता बनने का इंदिरा का सफर

स्वातंत्र्योत्तर भारत के इतिहास में इंदिरा गांधी एक विलक्षण व्यक्तित्व की राजनेता थीं। वे भारत के प्रधानमंत्री के पद पर 1966 से लेकर 1977 और [more…]

Estimated read time 1 min read
ज़रूरी ख़बर

इमरजेंसी के साथ तानाशाही पर भी बहस कीजिए

हर बार की तरह इस बार भी भारतीय जनता पार्टी ने 25 जून का इस्तेमाल यह साबित करने के लिए किया कि कांग्रेस एक लोकतंत्र [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

सीपी-कमेंट्री: इंदिरा गांधी की इंटरनल इमरजेंसी और आरएसएस–भाजपा का लोकतंत्र का स्वांग

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रचारक रह चुके हम भारत के लोग के मौजूदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 26 जून, 1975 को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी [more…]

Estimated read time 3 min read
बीच बहस

इमरजेंसी संस्मरण: बैरक नंबर 10 बटा 4 सेंट्रल जेल ग्वालियर

(एक)बैरक नंबर 10 बटा 4 सेंट्रल जेल ग्वालियर। सबसे लम्बे समय तक -इमरजेंसी की पूरी जेल अवधि- में यही हमारा पता था। यूं जेल प्रवास [more…]

Estimated read time 1 min read
राजनीति

आपातकाल से भी भयावह है वर्तमान काल !

सन् 1975 का 26 जून से लेकर 21 मार्च 1977 का वह काला दौर जब तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने आपातकाल को समय की जरूरत [more…]