Estimated read time 1 min read
ज़रूरी ख़बर

क्यों पत्रकारिता के भीष्म पितामह हैं विनोद दुआ?

विनोद दुआ को पत्रकारिता का भीष्म पितामह कहे जाने पर प्रतिक्रियाएं लगातार मिली हैं। असहमति के सुर अधिक मुखर हैं। मगर, जो प्रतिक्रियाएं नहीं आयी [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

क्या विनोद दुआ ‘राष्ट्र के लिए खतरा’ हैं?

आदरणीय विनोद दुआ पत्रकारिता जगत के भीष्म पितामह हैं। देश और पत्रकारिता के लिए उनका समर्पण, उनकी निष्ठा, उनका त्याग बेशकीमती रहा है। दुआ जी [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

पत्रकारिता दिवस के स्मरण का मतलब

आज हिंदी पत्रकारिता 194 वर्ष पुरानी हो गई। 30 मई 1826 को कलकत्ते से हिंदी के पहले साप्ताहिक अखबार `उदंत मार्तंड’ का प्रकाशन हुआ था। [more…]

Estimated read time 2 min read
बीच बहस

पत्रकारिता नहीं, ट्रोलों की जमात के अगुआ हैं अर्णब

अर्णब की चीखती और शोर मचाने वाली पत्रकारिता की आड़ में सरकार द्वारा जो कुछ भी किया जा रहा है उसे देखिए, पढ़िये और समझिए [more…]

Estimated read time 1 min read
ज़रूरी ख़बर

हिंदी अख़बार क्यों हो जाते हैं शरजील इमाम केस में भड़काऊ?

शरजील इमाम के केस को कवर करते समय हिंदी के अख़बारों ने फिर पत्रकारिता के उसूलों के साथ समझौता किया है। उन्होंने ने इमाम के [more…]

Estimated read time 1 min read
संस्कृति-समाज

जन्मदिन पर विशेष: अंग्रेजों से लोहा लेने वाली माखनलाल की कलम ने आज़ादी के बाद दिखाया समाज को रास्ता

बीसवीं सदी के पूर्वार्ध में अनेक महापुरुषों ने राष्ट्रीय परिदृश्य पर अपने बहुआयामी व्यक्तित्व और कालजयी कृतित्व की छाप छोड़ी। ऐसे ही महापुरुषों में दादा [more…]

Estimated read time 2 min read
संस्कृति-समाज

शहादत सप्ताह: सांप्रदायिकता को राष्ट्र का सबसे बड़ा दुश्मन मानते थे गणेश शंकर विद्यार्थी

अमर शहीद गणेश शंकर विद्यार्थी सिर्फ महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी ही नहीं थे, बल्कि हिन्दी पत्रकारिता के शिखर पुरुष भी माने जाते हैं। लोकमान्य बाल [more…]

Estimated read time 1 min read
संस्कृति-समाज

‘समयांतर’ में अटकी है हिंदी की राजनीतिक और वैचारिक पत्रकारिता की जान: असद जै़दी

हिन्दी के वरिष्ठ कवि, गद्यकार और विचारक असद ज़ैदी ने कहा कि हिन्दी पत्रकारिता में बतौर संपादक पंकज बिष्ट से ज़्यादा योगदान शायद ही किसी [more…]

Estimated read time 1 min read
ज़रूरी ख़बर

दिल्ली चुनाव में बेघरों का मुद्दा क्यों नहीं

जनवरी जाने को है। देश भर में बारिश के बाद ठंड वापस अपनी रंगत पर है। जमीन गीली, आसमान गीला, हवाएं गीली। एक गीली ठंडी [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

माहेश्वरी का मत: मीडिया का नया दौर और हिंदी पत्रकारिता

राजकिशोर की तरह के एक स्वातन्त्र्य चेता और पत्रकारिता के जगत में अपने एक अलग ही छंद के रचयिता पत्रकार की स्मृति में इस व्याख्यानमाला [more…]