Estimated read time 3 min read
ज़रूरी ख़बर

भारत का नवजीवन : सत्य, शंका, संभावना, समस्या और समाधान

आम चुनाव 2024 में सत्ता परिवर्तन के आसार दिख रहे हैं। यदि सचमुच सत्ता परिवर्तन होता है, तो‎ भारत के लिए यह नवजीवन से कम [more…]

Estimated read time 4 min read
संस्कृति-समाज

दर्द जिंदगी का सच है, वही जोड़ कर रखे हुए है हम सबको

0 comments

दर्द से मेरा दामन भर दे..! अजीब सा ख़्याल है ना, लोग देवताओं से दुआ मांगते हैं कि उनका दामन ख़ुशियों से भरा रहे हमेशा, और ये गा रही [more…]

Estimated read time 1 min read
जलवायु

बंजर जमीन पर वनीकरण की हकीकत

क्षतिपूरक वनीकरण हास्यास्पद कवायद बन गई है। इसके अंतर्गत बंजर और पथरीली जमीन पर पौधे पनपाने की कोशिश होती है जिस जमीन पर पहले कभी [more…]

Estimated read time 1 min read
राजनीति

गांधी जी, सत्य और अहिंसा

कल (1 अक्तूबर) के ‘टेलिग्राफ’ में हिलाल अहमद का एक लेख ‘सत्याग्रह’ की बद्धमूल धारणा के संदर्भ में ‘एक संभावनापूर्ण हथियार’ (Potent Weapon) अपने तमाम [more…]

Estimated read time 1 min read
ज़रूरी ख़बर

आखिर सच से इतना खौफ क्यों खाती है सत्ता?

अभिव्यक्ति के विरोधियों की भावनाएं बड़ी जल्दी-जल्दी आहत होने लगती हैं और उन्हें अभिव्यक्ति की हर आज़ादी, देश के मौलिक अधिकारों के दुरुपयोग और देशद्रोह [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

बयानों तक क्यों सीमित हैं मी लॉर्ड के अल्फाज?

‘अधिनायकवादी सरकारें अपनी सत्ता को मजबूत करने की खातिर झूठ पर निर्भरता के लिए जानी जातीं हैं, हम देखते हैं कि दुनियाभर के देशों में [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

सत्य के बरक्स झूठ का भीमकाय बनना

0 comments

महात्मा गांधी ने एक बार कहा था, “सत्य ही ईश्वर है”। सत्य शब्द का प्रयोग कई अर्थों में किया जाता है। एक अर्थ में वह [more…]

Estimated read time 2 min read
ज़रूरी ख़बर

ज्यादातर सरकारें अपनी सत्ता को बचाए रखने के लिए झूठ बोलती हैं: जस्टिस चंद्रचूड़

उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा है कि कोई केवल उस बात पर विश्वास नहीं कर सकता जो सरकार बता रही है। [more…]

Estimated read time 1 min read
ज़रूरी ख़बर

राहुल बनाम मोदीः सच बनाम झूठ की लड़ाई

राहुल गांधी के बारे में लिखना-बोलना एक कठिन काम है। देश की सबसे पुरानी तथा एक महत्वपूर्ण पार्टी के नेता के बारे में अपनी राय [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

मीडिया सुधार के सिलसिले में एक सरोकारी पत्रकार की चिट्ठी

0 comments

Media, letter, journalist, broker, truth, alternative, (इस समय मीडिया की स्थिति को लेकर बहुत सारे लोग बेहद चिंतित हैं। और यह चिंता समाज के हर [more…]