Wednesday, October 27, 2021

Add News

27 सितंबर के ‘भारत बंद’ के लिए किसान संगठनों ने जारी की गाइडलाइन

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

नई दिल्ली। संयुक्त किसान मोर्चा ने सोमवार, 27 सितंबर 2021 को भारत बंद के लिए दिशा-निर्देश जारी किए हैं, और घटक संगठनों से समाज के सभी वर्गों के किसानों से हाथ मिलाने और बंद को पहले से प्रचारित करने की अपील की है, ताकि जनता को असुविधा न हो। बंद शांतिपूर्ण और स्वैच्छिक होगा और आपातकालीन सेवाओं को छूट दी जाएगी। भारत बंद 27 सितंबर को सुबह 6 बजे से शाम 4 बजे तक रहेगा। दिन के लिए मुख्य बैनर या थीम “किसान विरोधी मोदी सरकार के खिलाफ भारत बंद”, “मोदी करेगा मंडी बंद, हम करेंगे भारत बंद” इत्यादि रहेगा। बंद 27 सितंबर 2021 को केंद्र और राज्य सरकारों के कार्यालयों, बाजारों, दुकानों और कारखानों, स्कूलों, कॉलेजों और अन्य शैक्षणिक संस्थानों, विभिन्न प्रकार के सार्वजनिक परिवहन और निजी परिवहन, सार्वजनिक कार्यों और कार्यक्रमों को बंद करने की मांग करेगा।

हरियाणा की भाजपा-जजपा सरकार बार-बार अति किसान-विरोधी व्यवहार का प्रदर्शन करने के बाद ऐतिहासिक किसान आंदोलन को दबाने के लिए तरह-तरह के घटिया हथकंडे अपना रही है। खबर है कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की और उन्हें करनाल की घटनाओं सहित किसानों के विरोध प्रदर्शन से अवगत कराया। एसकेएम का कहना है कि अगर भाजपा को किसानों के लगातार और तेज हो रहे विरोध प्रदर्शनों की चिंता है तो उन्हें आंदोलन की जायज मांगों को पूरा करके इसका समाधान करना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट और राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग द्वारा जारी नोटिस के जवाब में, हरियाणा सरकार ने अतिरिक्त मुख्य सचिव (गृह) राजीव अरोड़ा की अध्यक्षता में राज्य के कई वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की एक समिति का गठन किया है। 20 सितंबर, 2021 को सुप्रीम कोर्ट की निर्धारित सुनवाई से पहले सोनीपत जिले के जिला मजिस्ट्रेट ने 19 सितंबर 2021 को एसकेएम नेताओं के साथ मुरथल में बैठक बुलाई है।

एसकेएम एक बार फिर दोहराता है कि यह उनकी अपनी इच्छा से नहीं है कि लाखों किसान दिल्ली की सीमाओं पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, बल्कि केंद्रीय गृह मंत्रालय सहित विभिन्न राज्यों की पुलिस ने उन्हें सीमाओं पर रहने के लिए मजबूर किया है। भारी बारिश और बाढ़, भीषण गर्मी और सर्दी के महीनों में किसान विपत्ति में राजमार्गों पर डटे हुए रहे हैं। किसानों के लिए वर्तमान संघर्ष उनकी आजीविका, बुनियादी संसाधनों और आने वाली पीढ़ियों के भविष्य की रक्षा से जुड़ा है। आंदोलन में अब तक 600 से अधिक किसान शहीद हो चुके हैं। यह सरकार है जो अड़ी हुई है और किसानों को सीमाओं पर विरोध करने के लिए मजबूर कर रही है।

एसकेएम 24 सितंबर, 2021 को स्कीम वर्कर की अखिल भारतीय हड़ताल को सक्रिय समर्थन देता है, जिसमें आंगनवाड़ी, आशा, एमडीएम, एनसीएलपी, एसएसए, एनएचएम कार्यकर्ताओं की भागीदारी होगी। ये श्रमिक सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयों और सेवाओं के निजीकरण को रोकने और चार श्रम संहिताओं को वापस लेने के अलावा न्यूनतम मजदूरी के प्रावधान के साथ श्रमिकों के रूप में अपनी सेवाओं को नियमित करने की मांग कर रहे हैं। एसकेएम यह मानता है कि देश के दूरदराज के हिस्सों में भी पोषण, स्वास्थ्य देखभाल, बच्चों की देखभाल और शिक्षा की बुनियादी सेवाएं देने वाले इन योजना कार्यकर्ताओं, जिसमें ज्यादातर महिलाएं हैं, का शोषण किया जा रहा है और उन्हें भरण-पोषण भत्ता भी नहीं मिलता है। ये श्रमजीवी अपनी जान जोखिम में डालकर कोविड महामारी से लड़ने में सबसे आगे रहे हैं। एसकेएम इन लाखों श्रमिकों को बधाई देता है, और 24 सितंबर के लिए नियोजित उनकी ऐतिहासिक अखिल भारतीय हड़ताल के प्रति पूर्ण एकजुटता व्यक्त करता है।

ऐसा प्रतीत होता है कि उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार पूरे राज्य में किसान आंदोलन को मिल रहे जनसमर्थन से घबरा रही है। किसानों के आंदोलन का मुकाबला करने के लिए उत्तर प्रदेश भाजपा द्वारा किया जा रहा किसान सम्मेलन राज्य के उन किसानों को मूर्ख नहीं बना पाएगा, जो यह समझ चुके हैं कि भाजपा मूल रूप से किसान विरोधी है। उत्तर प्रदेश के किसान मोदी सरकार द्वारा थोपे गए 3 काले कानूनों को रद्द करने और सभी किसानों के लिए गारंटीकृत लाभकारी एमएसपी सुनिश्चित करने वाले कानून के लिए बड़ी संख्या में आगे बढ़ रहे हैं।

विभिन्न राज्यों में चल रहे आंदोलन को मजबूत करने और 27 सितंबर को भारत बंद को सफल बनाने के लिए बड़े पैमाने पर किसानों की लामबंदी हो रही है। राजस्थान के सीकर में अखिल भारतीय किसान सभा के नेतृत्व में कल “रोष प्रदर्शन” के रूप में किसानों की एक बड़ी सभा हुई। इस बीच महाराष्ट्र के नंदुरबार में शुरू हुई शेतकारी संवाद यात्रा आज धुले जिले से होते हुए नासिक के मुलर पहुंची।

27 सितंबर के बंद की योजना बनाने के लिए 20 सितंबर को मुंबई में राज्य स्तरीय तैयारी बैठक है। वहीं 20 सितबर को उत्तर प्रदेश के सीतापुर में किसान मजदूर महापंचायत का आयोजन होगा। 22 सितंबर को उत्तराखंड के रुड़की के लक्सर में किसान महापंचायत होगी ।

22 सितंबर से किसान टिकरी और सिंघु विरोध स्थलों पर 5 दिवसीय कबड्डी लीग टूर्नामेंट का आयोजन करेंगे। विभिन्न राज्यों की टीमों के भाग लेने और   नकद पुरस्कारों को जीतने के लिए उम्दा प्रदर्शन की उम्मीद है।

आज समाज सुधारक और “द्रविड़ आंदोलन के जनक” पेरियार ईवी रामासामी की जयंती देश भर में विभिन्न कार्यक्रमों और कार्यक्रमों के माध्यम से मनाई जा रही है। उनका आत्म-सम्मान आंदोलन और उनका जाति और पितृसत्ता के खिलाफ सफल सामाजिक न्याय संघर्ष, वर्तमान पीढ़ी के भारतीयों के लिए भी एक गहरी प्रेरणा है।

अलग-अलग जगहों पर भाजपा और सहयोगी दलों के नेताओं के खिलाफ स्थानीय स्तर पर विरोध प्रदर्शन जारी है। कल पंजाब के जालंधर में भाजपा नेता एचएस कहलों को ऐसे ही एक विरोध का सामना करना पड़ा। हरियाणा के पानीपत में जजपा के अध्यक्ष अजय चौटाला को उनके विरोध में इकट्ठा हुए किसानों की एक बड़ी सभा द्वारा काले झंडे के विरोध का सामना करना पड़ा। पुलिस ने कई किसानों को हिरासत में लिया गया और बाद में रिहा कर दिया।

(प्रेस विज्ञप्ति पर आधारित।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

सरदार उधम: आज देश को ‘राम मोहम्मद सिंह आज़ाद’ की ही जरूरत है

सरदार उधम अंत में एक सवाल उठाती है कि अंग्रेजों के शासन के दौरान भारत में लाखों लोग मारे...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -