27.1 C
Delhi
Sunday, September 26, 2021

Add News

अमेरिका का अफगानिस्तान युद्ध से पलायन बनाम उसका झूठ

ज़रूर पढ़े

काबुल एयरपोर्ट के बाहर हुए एक जबर्दस्त फियादीन बम विस्फोट में जिसमें 157 आम अफगान नागरिकों और 13 अमेरिकी सैनिकों की मौत हो गई थी, इस भयावय विस्फोट में बच गये एक अमेरिकी ने तालिबान आंतकवादियों द्वारा मार दिए जाने के डर से अपना नाम न छापने की शर्त पर उस भीषण विस्फोट की भयावहता की अपनी आँखों देखी बयान में बताया कि ‘मैनें अपनी आँखों से वह कयामत का मंजर देखा, मैं एयरपोर्ट के गेट पर कतार में खड़ा था, शाम को यह धमाका हुआ, ऐसे लगा जैसे किसी ने मेरे पैरों के नीचे से जमीन खींच ली हो, लगा जैसे मेरे कान के परदे फट गये हों। मैंने ऊपर देखा लोगों के अंगों के चिथड़े प्लास्टिक की थैलियों की तरह हवा में उड़ रहे थे। महिलाओं, बच्चों, जवानों और बुजुर्गों के अंग-प्रत्यंग दुर्घटना स्थल पर चारों तरफ बिखरे पड़े थे। मददगार लोग कचरा ले जाने वाली ट्रॉली तक में भी घायलों को अस्पताल ले जा रहे थे। मृतकों के साथ घायल लोग भी नाले में पड़े कराह रहे थे, मदद की गुहार लगा रहे थे, उनके जख्मों से बहते लहू से पूरे नाले का पानी लाल हो गया था।

‘वर्तमान दौर के अमेरिकी राष्ट्रपति द्वारा विस्फोट करने वाले आतंकवादियों को चेतावनी भरे अंदाज में जोर-शोर से घोषणा की गई कि हम तुम्हें ढूंढ निकालेंगे… और तुम्हें कीमत चुकानी ही पड़ेगी’, अगले दिन दुनियाभर के अखबारों में उनके मुखपृष्ठ पर बड़े-बड़े हेडिंग्स में छपा कि अमेरिका ने सिर्फ 48 घंटों में अपने दुश्मन को मार गिराया, एक जली हुई कार का फोटो भी छपा कि इसमें ही वह दुर्दांत आतंकी विस्फोटक के साथ कहीं धमाका करने जा रहा था, अमेरिकी ड्रोन ने केवल उसको ही सटीकता से मार गिराया। किसी और को जरा भी नुकसान नहीं हुआ, यह अमेरिकी बयान अर्धसत्य है, क्योंकि इस हमले में भले ही एक दुर्दांत आतंकवादी अब्दुल रहमान अल-लोगरी मारा गया हो, लेकिन वह अकेले नहीं मरा, वास्तविकता यह है कि इस आतंकी के साथ एक ही परिवार के कम से कम 10 निरपराध लोग, जिनमें कई छोटे-छोटे बच्चे भी थे, वे सभी बेचारे भी मौत के सीधे मुँह में चले गये। क्या अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन साहब ने उन निरपराध 10 बच्चों सहित अन्य वयस्कों की मौत पर अफगानिस्तान और दुनिया से इस बात के लिए खेद और अफसोस तक जाहिर करने की औपचारिकता तक निभाया। ! क्षमा मांगा ! बिल्कुल नहीं। इस बात का जिक्र अमेरिकी मीडिया द्वारा जानबूझकर नहीं किया गया, इसे बड़ी चतुराई से छिपा लिया गया। पूर्व में बीते बीस सालों में अमेरिकी कर्णधारों ने हजारों बार इस दुनिया से और खुद अपनी अमेरिकी जनता से भी झूठ बोले हैं।


अफगानिस्तान, इराक पर हमला कथित 9/11 के ट्विन टॉवरों के ध्वस्त करने के बदले में किया गया, लेकिन अमेरिकी ट्विन टॉवरों के 19 अपराधियों में एक भी अपराधी न इराक का था, न अफगानिस्तान का था, उन अपराधियों में 15 तो अमेरिका के परम् मित्र सऊदी अरब के थे। लेकिन ये अमरीकी कर्णधार सऊदी अरब की तरफ एक बार आँख उठाकर देखने की भी जहमत नहीं उठाए, लेकिन निरपराध व निर्दोष महान मेसोपोटामिया और बेबीलोन सभ्यता के प्रतीक इराकी राष्ट्र राज्य का सार्वभौमिक सत्यानाश करके रख दिए, क्या वैश्विक मीडिया अमेरिकी कर्णधारों से ये पूछ सकती है कि इराकी राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन को फांसी पर लटकाकर और उन्हें मौत के मुँह में धकेलने के कुकृत्य को करके क्या आज इराक में लोकप्रिय लोकतांत्रिक व्यवस्था का निर्माण हो गया। वहाँ के लोग स्वर्गीय सद्दाम हुसैन के समय से अब ज्यादे खुशहाल जीवन जी रहे हैं।

इसी प्रकार अफगानिस्तान में पिछले 20 सालों में खुद अमेरिका के अनुसार उसने 2 ट्रिलियन डॉलर मतलब 1460 खरब रूपये खर्च किया। इसके अलावा खुद अपने 2500 अमेरिकी सैनिकों सहित 2,40,000 अफगानी सैनिकों और वहाँ के आम लोगों की बलि लेकर अमरीका अपने वचन तथा क्रूर तालिबान को खदेड़ने, अफ़गानी महिलाओं की आजादी व इस देश को 21वीं सदी में लाने के वादे को एक प्रतिशत भी नहीं निभा पाया। अपितु 03 करोड़ 80 लाख की अत्यंत गरीब व असहाय अफगानी जनता को तालिबानी हिंसक, क्रूर भेड़ियों के सामने असहाय छोड़कर भाग खड़ा हुआ। जहाँ अब तालिबानी रक्तपिपासु, हिंसक भेड़िए भोजन के अस्वादिष्ट बनने के कथित अपराध पर खाना बनाने वाली उस महिला को सीधे धधकती आग में झोंक देने जैसी लोमहर्षक व हृदय विदारक कुकृत्य को अंजाम देने लगे हैं।

यही नहीं अमेरिकी सेना को अफगानिस्तान के जो लोग अपनी जान पर खेलकर एक उद्धारक व अपना मसीहा समझकर दुभाषिया बनकर या अन्य हर तरह से मदद किए थे, उन सभी की लिस्ट अब हत्यारे तालिबानियों के हाथों सौंप देने का घिनौना व कृतघ्न कुकर्म अमेरिकी कर्ताधर्ताओं द्वारा किया गया है। इस संबंध में अमेरिकी राष्ट्रपति महोदय ने स्पष्टता से स्वीकार किया कि ‘हो सकता है कि अमेरिकी नागरिकों, ग्रीन कॉर्डधारी और अमेरिकी सेनाओं की सूची तालिबान को सौंपी गई हो।’ यह तो बहुत ही अजीबोगरीब मूर्खतापूर्ण कुकृत्य है कि जो आपके मित्र हों उन्हीं के नाम, पते सहित लिस्ट अपने दुश्मन को सौंप दें, यह तो पागलपन की हद है। रक्षा विशेषज्ञों के अनुसार अफगानिस्तान के ऐसे लोगों का नाम अमेरिका द्वारा तालिबानी आतंकवादियों को सौंपने से वह सूची अब डेथ लिस्ट या किल लिस्ट बन गई है।

तालिबानी आतंकवादियों को अब देश के ऐसे गद्दारों को जो अमेरिकी साम्राज्यवादी सेना को गुपचुप तरीके से मदद किए हैं और वे तालिबानियों के पुनः सत्ता में आने के बाद उनके भय से अफगानिस्तान छोड़कर भाग जाना चाहते हैं, उन सभी की तालिबानियों को उस लिस्ट के माध्यम से बिल्कुल सही-सही जानकारी है, रक्षा विशेषज्ञों की यह भी राय है कि अभी हुए इस फियादीन बम विस्फोट में, जिसमें 170 लोग अपने जीवन से हाथ धो बैठे वह संभवतया उसी किल लिस्ट का नतीजा हो। अफगानिस्तान की जनता तालिबानी आतंकवादियों से इतने भयाक्रांत और डरी हुई है कि 30 अगस्त 2021 को काबुल एयरपोर्ट बन्द होने पर निराश होकर लाखों लोग पहाड़ी, रेतीले व उबड़ खाबड़ रास्तों से भी 1500 किलोमीटर दूर ईरान, तुर्की या पाकिस्तान को भागने जैसे कठोरतम् निर्णय ले रहे हैं। 

अमेरिका जैसे देश का यह विगत इतिहास रहा है कि वह सिर्फ अपने स्वार्थ की खातिर दुनिया के तमाम देशों तथा उत्तर कोरिया, वियतनाम, इराक, क्यूबा, सीरिया, लीबिया, ईरान, अफगानिस्तान आदि पर पहले आर्थिक प्रतिबंध लगा कर वहाँ दवाइयों, पेट्रोल, खाद्यान्नों आदि की बेहद कमी करके वहाँ की जनता का जीवन बेहद नारकीय बनाकर रख देता है, फिर भी वहाँ के लोग और वे देश अपने स्वाभिमान पर अडिग रहते तो उस स्थिति में पहले से ही जर्जर आर्थिक स्थिति वाले इन देशों पर जबरन सीधा युद्ध थोप देता है। और उस देश की लाखों-लाख जनता को युद्ध की बलि चढ़ा देना इस युद्धपिपासु अमेरिका का शौक रहा है।

दुनिया का बड़ा से बड़ा और खूंखार आतंकवादी संगठन हजार-पांच सौ लोगों की हत्या करता है, लेकिन अमेरिका जैसे रक्तपिपासु देश दुनिया के तमाम गरीब व कमजोर राष्ट्रों की ही हत्या कर देता रहा है। अमेरिका द्वारा कुछ देशों पर युद्ध थोपकर वहाँ के सैनिकों और आमजन का कितने लोगों को मौत के घाट उतारा है उसका एक नमूना देखिए कोरियाई प्रायद्वीप में हुए युद्ध में दक्षिण कोरिया के अनुसार उसके 4,00,000 (चार लाख) लोग मरे, उत्तर कोरिया के मृतकों की संख्या अनुपलब्ध है, वियतनाम युद्ध में 30,00,000 (तीस लाख) वियतनामी सैनिक और जनता मरी, जापान के हिरोशिमा और नागसाकी पर परमाणु बम गिराकर 2,46,000 (दो लाख छियालिस हजार) लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया और अब अमरीकी कर्णधार अफगानिस्तान में पिछले 20 सालों में 2,40,000 (दो लाख चालीस हजार) सैनिक सहित आम जनता का कत्ल कर दिए।

सबसे बड़ी विडम्बना और पूरे विश्व के लिए त्रासद स्थिति यह है कि अमेरिका जैसे देश द्वारा इतना बड़ा मानवीय हत्याकांड होने के बावजूद अमेरिकी कर्णधारों को अपने किए पर किसी तरह की आत्मग्लानि व अपराध बोध नहीं है। आश्चर्यजनक व कटु यथार्थ ये है कि अमेरिकी कर्णधार एक देश, एक राष्ट्र को बर्बाद करने के तुरंत बाद ही किसी अन्य राष्ट्र को किसी न किसी बहाने ‘शिकार’ करने के लिए कोई नया बहाना ढूंढ़कर उधर अपने लाव-लश्कर के साथ चल पड़ते हैं। इस एक देश से इस धरती की समस्त मानवता अत्यंत व्यथित व त्रस्त है। यह त्रासद स्थिति अब हर हाल में रुकनी ही चाहिए, इतनी बड़ी मानवीय हत्याओं को हर हाल में रोकने के लिए इस दुनिया में गंभीर चिंतन होना ही चाहिए।

(निर्मल कुमार शर्मा पर्यावरणविद और टिप्पणीकार हैं। आप आजकल गाजियाबाद में रहते हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

कमला भसीन का स्त्री संसार

भारत में महिला अधिकार आंदोलन की दिग्गज नारीवादी कार्यकर्ता, कवयित्री और लेखिका कमला भसीन का शनिवार सुबह निधन हो...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -

Log In

Or with username:

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy

Add to Collection

No Collections

Here you'll find all collections you've created before.