28.1 C
Delhi
Monday, September 20, 2021

Add News

धर्म के चश्मे से जन आंदोलनों को देखना आत्मघाती और राष्ट्रघाती

ज़रूर पढ़े

अब एक नया तर्क गढ़ा जा रहा है कि इन किसानों को भड़काया जा रहा है। यह भड़काने का काम कांग्रेस कर रही है। कांग्रेस एक विपक्षी दल है और इन कृषि कानूनों को चूंकि सरकार जो भाजपा की है, पारित किया है, तो यह इल्ज़ाम आसानी से कांग्रेस के माथे पर चिपक जाता है। भाजपा को लंबे समय तक विपक्षी दल रहने का अनुभव प्राप्त है और जब वह विपक्ष में थी तो उसने भी बढ़ती कीमतों, आतंकवाद, भ्रष्टाचार आदि मुद्दों पर, आंदोलन किए हैं तो क्या यह मान लिया जाए कि जब वह विपक्ष में रहती है तो वह भी जनता को सरकार के खिलाफ भड़काती रहती थी।

अगर यह तर्क सही है तो क्या यह मान लिया जाना चाहिए कि जो भी दल जब भी विपक्ष में रहेगा, वह जनता को सरकार के विरोध के लिए भड़काता रहेगा? फिर तो हर वह आंदोलन जो सरकार की नीतियों के खिलाफ कभी भी हुआ है या आगे होगा, वह नेताओं द्वारा भड़काया ही गया होगा, चाहे वह 1857 का विप्लव रहा हो या 1942 का भारत छोड़ो आंदोलन या 1975 का जेपी आंदोलन या 1990 का राम जन्मभूमि आंदोलन या 2013 का अन्ना आंदोलन या अब यह आंदोलन जो किसानों द्वारा तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किया जा रहा है।

दुनिया में कोई भी आंदोलन जो स्वयंस्फूर्त उठता है, वह तार्किक परिणति पर नहीं पहुंच पाता है। वह अपने लक्ष्य पर पहुंचने के पहले ही विफल हो जाता है, क्योंकि स्वयंस्फूर्तता बिना किसी योजना के और आगा-पीछा सोचे बगैर उत्पन्न होती है और ऐसे आंदोलन अक्सर नेतृत्व विहीन हो जाते हैं। यह अलग बात है कि बाद में आंदोलन के दौरान कोई नेतृत्व उपज जाता है, और अगर वह सक्षम हुआ तो आंदोलन अपने लक्ष्य तक पहुंचता है अन्यथा वह बीच में ही असफल होकर भटक जाता है। ऐसे आंदोलनों के भटकने का एक बड़ा कारण, आंदोलन के पीछे किसी स्पष्ट वैचारिकी का अभाव और आंदोलन की सफलता के बाद की क्या कार्य योजना होगी, उसकी अनिश्चितता होती है।

अब बात मौजूदा किसान आंदोलन की, की जाए। यह आंदोलन स्वयंस्फूर्त नहीं है, बल्कि इसके पीछे अनेक किसान संगठनों की एकजुटता और भूमिका है। विपक्षी दल अगर इस आंदोलन के साथ नहीं हैं तो वे फिर सरकार के ही साथ हैं यह अलग बात है कि वे चोला विपक्ष का ओढ़े हैं। विपक्ष के नेताओं को और किसान कानूनों के जानकारों को इस समय आगे आ कर इन किसान कानूनों के बारे में जनता और किसानों को जागृत करना चाहिए। जनता को सरकार की नीतियों के बारे में बताना, उसकी कमियों और खूबियों पर चर्चा करना, क्या परिणाम और क्या दुष्परिणाम होंगे इस पर लोगों को संतुष्ट और आश्वस्त करना, भड़काना नहीं होता है, बल्कि यह एक प्रकार का जनजागरण है। सरकार भी अपने द्वारा बनाए कानून के बारे में लोगों को समझा सकती है और जनता को यह आश्वस्त कर सकती है कि बनाए गए तीनों कृषि कानून, किसानों के व्यापक हित में हैं और इससे उनकी आय बढ़ेगी।

देश का सरकार समर्थक तबका, जिसमें पढ़े लिखे मिडिल क्लास के लोग भी हैं, आज जिस मोहनिद्रा में लीन हैं, वह न केवल अपने लिए बल्कि आने वाली अपनी पीढ़ियों के लिए भी अनायास ही एक ऐसी राह पर चल पड़े हैं जो प्रतिगामी है और लंबे दौर में यह दृष्टिकोण, देश, समाज और आने वाली पीढ़ी के लिए घातक होगा। मिडिल क्लास के लिए मैं कुछ तथ्य रखते हुए अपनी बात कहता हूं।

  •  आप किसान नहीं हैं, इसलिए आप किसानों के इस आंदोलन को फर्जी, देशद्रोह और खालिस्तानी कह कर इसकी निंदा कर रहे हैं।
  •  आप एक प्रवासी मज़दूर भी नहीं हैं, इसलिए जब हज़ारों किलोमीटर सड़कों पर प्रवासी मजदूर घिसटते हुए अपने घरों की ओर जा रहे थे, तो न तो आप आहत हुए और न ही आप ने सरकार से इनकी व्यथा के बारे में कोई सवाल पूछा।
  •  आप फैक्ट्री में काम करने वाले मज़दूर भी नहीं हैं, जो श्रम कानूनों में मज़दूर विरोधी बदलाव के खिलाफ खड़े हों और सरकार से कम से कम यह तो पूछें कि इन कानूनों में इस समय बदलाव की ज़रूरत क्या है और कैसे यह बदलाव श्रमिक हित में होंगे।
  •  आप के सामने देखते देखते, मेडिकल कॉलेज, इंजीनियरिंग कॉलेज, अन्य तकनीकी शिक्षा की फीस कई गुना बढ़ गई। लाखों रुपये अस्पताल में इलाज पर खर्च कर के, इस महामारी में, लोग अपने घर या तो स्वस्थ हो कर आए या मर गए। पर सरकार की कितनी जिम्मेदारी है इस महामारी में जनता को सुलभ इलाज देने की, इस पर एक भी सवाल सरकार से नहीं पूछा गया। आप इससे सीधे प्रभावित होते हुए भी मौन बने रहे। एक शब्द भी विरोध का नहीं कहा और न ही सरकार से पूछा कि ऐसा क्यों किया जा रहा है?
  • आप के सामने देखते देखते लाभकारी सार्वजनिक कंपनियों को, सरकार निजी  क्षेत्रों को अनाप-शनाप दामों पर बेच रही है, पर आप इस लूट की तरफ से आंख मूंदते जा रहे है और सरकार से एक छोटा सा सवाल भी नहीं पूछ पा रहे हैं कि आखिर इन छह सालों में ऐसा क्या हो गया कि घर के बर्तन-भांडे बिकने की कगार पर आ गए? 
  •  सरकार ने नोटबंदी में देश की आर्थिकि गति को अवरुद्ध कर दिया। जो उद्देश्य थे, उनमें से एक भी पूरे नहीं हुए। प्रधानमंत्री ने सब ठीक करने के लिए 50 दिन का समय रिरियाते हुए मांगे थे। न जाने कितने 50 दिन बीत गए, आपने सरकार से तब भी नहीं पूछा कि आखिर नोटबंदी की ज़रूरत क्या थी और इसका लाभ मिला किसे?
  •  बाजार की महंगाई से आप अनजान भी नहीं हैं। आटे-दाल का भाव भी आप को पता है। आप उस महंगाई से पीड़ित भी हैं, दुःखी भी, और यह सब भोगते हुए भी आप सरकार के सामने, जिसे आपने ही सत्ता में बैठाया है, कुछ कह नहीं पा रहे हैं। जो कुछ कह, पूछ और आपत्ति कर रहा है, उसे आप देशविरोधी कह दे रहे हैं, क्योंकि आप के दिमाग में यह ग्रंथि विकसित कर दी गई है कि सरकार से पूछना ईशनिंदा की तरह है। जब आप जैसी जनता होगी तो कोई भी शासक, तानाशाह बन ही जाएगा।
  •  बेरोजगारी बढ़ती जा रही है, बैंकिंग सेक्टर से एक-एक कर के निराशाजनक खबरें आ रही हैं। शिक्षा, स्वास्थ्य जो सरकार का मूल दायित्व है, से सरकार जानबूझ कर पीछा छुड़ा रही है। पर द ग्रेट मिडिल क्लास अफीम की पिनक में मदहोश है।

यह एक नए तरह का अफीम युद्ध है। यह एक नया वर्ल्ड आर्डर है जो असमानता की इतनी चौड़ी और गहरी खाई खोद देगा कि विपन्नता के सागर में समृद्ध के जो द्वीप बन जाएंगे उनमें द ग्रेट मिडिल क्लास को भी जगह नहीं मिलेगी वह भी उसी विपन्नता के सागर में ऊभ-चूभ करने लगेगा।

किसानों ने एक बड़ा मौलिक सवाल सरकार से पूछा है,
● यह तीन कृषि कानून किन किसानों के हित के लिए लाए गए हैं?
● किस किसान संगठन ने इन्हें लाने के लिए सरकार से मांग की थी?
● इनसे किसानों का हित कैसे होगा?

आज तक खुद को जागरूक, अधुनातन और नयी रोशनी में जीने वाले द ग्रेट मिडिल क्लास का कुछ तबका यह ऐसा ही सवाल, नोटबंदी, जीएसटी, लॉकडाउन, घटती जीडीपी, आरबीआई से लिए गए कर्ज, बैंकों के बढ़ते एनपीए आदि-आदि आर्थिक मुद्दों पर सरकार से पूछने की हिम्मत नहीं जुटा सका। और तो और 20 सैनिकों की दुःखद शहादत के बाद भी प्रधानमंत्री के चीनी घुसपैठ के जुड़े इस निर्लज्ज बयान कि ‘न तो कोई घुसा था, और न कोई घुसा है’, पर भी कुछ को कोई कुलबुलाहट नहीं हुR वे अफीम की पिनक में ही रहे।

और जो सवाल पूछ रहे हैं, वे या तो देशद्रोही हैं, या आईएसआई एजेंट, अलगाववादी, अब तो खालिस्तानी भी हो गए, वामपंथी, तो वे घोषित ही हैं। पर आप क्या हैं? हल्का सा भी हैंगओवर उतरे तो ज़रा सोचिएगा। इसका कारण है, थोड़ा बहुत भी द ग्रेट मिडिल क्लास के पास खोने के लिए, जो शेष है, वही आप के पांवों में बेड़ियां बनकर जकड़े हुए है। जब खोने के लिए वह भी शेष नहीं रहेगा तब आप भी जगेंगे, और इस पंक से कीचड़ झाड़ते हुए उठेंगे, पर उठेंगे ज़रूर। पर तब तक बहुत कुछ खो चुका होगा। बहुत पीछे हम जा चुके होंगे।

इस में आप शब्द किसी व्यक्ति विशेष को लेकर नहीं प्रयुक्त हुआ है। इस आप में, आप सब भी हैं, मैं भी हूं, हम सब हैं, फ़ैज़ के शब्दों में कहूं तो, ‘मैं भी हूं और तू भी है’ जो इस द मिडिल क्लास की विशालकाय अट्टालिका में एक साथ रहते हुए भी अलग अलग कंपार्टमेंट जैसे अपार्टमेंट में खुद को महफूज समझने के भ्रम में मुब्तिला हैं।

जनता, सरकार विरोधी हो सकती है, उसे सरकार विरोधी होना भी चाहिए, क्योंकि उसने सरकार को, उसके वादों के आधार पर ही चुना है और जब सरकार वह वादे पूरा न करने लगे तो जनता का यह संवैधानिक कर्तव्य है कि वह सरकार के संवैधानिक दायित्व को याद दिलाए। सरकार का विरोध देश का विरोध नहीं है, बल्कि इतिहास में ऐसे क्षण भी आए हैं, जब सरकार ने खुद ही अपने लोगों के स्वार्थ में वशीभूत हो कर संविधान के विरुद्ध आचरण किया है।

तब जनता का यह दायित्व और कर्तव्य है कि वह सरकार को संवैधानिक पटरी पर लाने के लिए सरकार का विरोध, संवैधानिक तरह से करे। संविधान के समस्त मौलिक अधिकार, इसीलिए जनता को शक्ति संपन्न भी करते हैं। सरकार जनविरोधी नहीं हो सकती है, क्योंकि वह जनता द्वारा ही अस्तित्व में लाई गई है। संविधान व्यक्तिगत स्वतंत्रता की बात करता है, व्यक्तिगत अस्मिता की बात है, हर व्यक्ति को अपनी बात कहने और सरकार से निदान पाने का अधिकार है।

अब जब यह कहा जा रहा है कि पंजाब के किसान ही क्यों सड़कों पर हैं तो यह बात, सरकार को उन्हीं से पूछनी चाहिए कि वे क्यों सड़कों पर हैं और उनकी समस्या का निदान सरकार को ढूंढना चाहिए, जिसे कष्ट होगा, वही तो अपनी बात कहने सड़कों पर उतरेगा।

आज जिस खालिस्तान, पाकिस्तान और हिंदू राष्ट्र की बात की जा रही है, वह मुर्दा द्विराष्ट्रवाद का एक बिजूका है बस। निर्जीव पुतला। खालिस्तान की अवधारणा भी उसी मानसिकता की देन है, जिसने 1947 में पाकिस्तान बनवाया था और 1937 में हिंदू राष्ट्र का राग अलापा था। अगर आप धर्म आधारित राष्ट्र, जो आजकल एक नए मोड में हिंदू राष्ट्र कह कर बहुप्रचारित किया जा है, के समर्थन में हैं तो खालिस्तान की अवधारणा के विरोध का कोई आधार आप के पास नहीं है। प्रकारांतर से हिंदू राष्ट्र के पैरोकार, धर्म आधारित एक और राष्ट्र खालिस्तान के विचारों का ही पोषण करते हैं। 1947 में देश ने धर्म आधारित राष्ट्र की अवधारणा को ठुकरा कर एक पंथनिरपेक्ष संविधान को अंगीकार किया है।

पाकिस्तान, खालिस्तान और हिंदू राष्ट्र की अवधारणा एक विभाजनकारी अवधारणा के अतिरिक्त और कुछ नहीं है। इस मृत हो चुके द्विराष्ट्रवाद को एक बिजूके की तरह खड़ा करने की कोशिश की जा रही है, उसका पुरजोर विरोध होना चाहिए। खालिस्तान की अवधारणा को खुद सिखों ने ही खारिज कर दिया है। यह अब कहीं नहीं है और अगर है भी तो यह केवल उन्हीं के दिमाग में है, जो ‘धर्म ही राष्ट्र है’ की थियरी की शव साधना यदा कदा करते रहते हैं। हम धर्म आधारित किसी भी राष्ट्र की चाहे वह पाकिस्तान हो, खालिस्तान हो या हिंदू राष्ट्र की अवधारणा हो, के खिलाफ थे, हैं और आगे भी रहेंगे।

(विजय शंकर सिंह रिटायर्ड आईपीएस अफसर हैं। आजकल आप कानपुर में रहते हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

कोविड महामारी पर रोक के लिए रोज़ाना 1 करोड़ टीकाकरण है ज़रूरी

हमारी स्वास्थ्य और सामाजिक सुरक्षा एक दूसरे की स्वास्थ्य और सामाजिक सुरक्षा पर निर्भर है, यह बड़ी महत्वपूर्ण सीख...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -

Log In

Or with username:

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy

Add to Collection

No Collections

Here you'll find all collections you've created before.