Saturday, March 25, 2023

Resistance

अमृत महोत्सव के दौर में प्रतिरोध : प्रलेस का दो दिवसीय आयोजन

दिल्ली। 'अमृत महोत्सव के दौर में प्रतिरोध' आज के दौर में बेहद महत्वपूर्ण और विचारोत्तेजक विषय पर प्रगतिशील लेखक संघ की दिल्ली इकाई 8 और 9 अगस्त को दो दिवसीय आयोजन कर रही है। जिसमें चार सत्रों में अलग—अलग...

सामाजिक कार्यकर्ताओं, पत्रकारों और फिल्मकारों की गिरफ्तारी और दमन के खिलाफ जगह-जगह प्रतिरोध

वाराणसी/रांची। 19 जुलाई 2022 को बीएचयू के मुख्य द्वार लंका गेट पर बनारस के तमाम संगठनों ने स्वतंत्र पत्रकार रूपेश कुमार सिंह और एक्टिविस्ट हिमांशु कुमार सहित तमाम राजनीतिक और सामाजिक कार्यकर्ताओं पर हो रहे राजकीय दमन के खिलाफ...

झारखंड: माओवादियों ने प्रतिरोध दिवस के तहत उड़ाए दो मोबाइल टावर व एक पुल

भाकपा माओवादी संगठन ने अपने केंद्रीय कमेटी सदस्य का. प्रशांत बोस तथा पत्नी एवं पार्टी की केंद्रीय कमेटी सदस्या शीला मरांडी की गिरफ्तारी व जेल यातनाओं के विरुद्ध में 21 से लेकर 26 जनवरी तक प्रतिरोध दिवस तथा 27...

जयंती पर विशेष: हर तरह का पाखंड बना देवताले की कलम का निशाना

हिंदी साहित्य में साठ के दशक में नई कविता का जो आंदोलन चला, चंद्रकांत देवताले इस आंदोलन के एक प्रमुख कवि थे। गजानन माधव मुक्तिबोध, नागार्जुन, शमशेर बहादुर सिंह, केदारनाथ अग्रवाल जैसे कवियों की परंपरा से वे आते थे।...

रंज यही है बुद्धिजीवियों को भी कि राहत के जाने का इतना ग़म क्यों है!

अपनी विद्वता के ‘आइवरी टावर्स’ में बैठे कवि-बुद्धिजीवी जो भी समझें, पर सच यही है, इत्ते बड़े मुल्क में, एक सीधी सी बात को ऐसे खरेपन से कह देना, राहत इंदौरी के ही हिस्से में आया था। हिर्स करो,...

निरंकुशता के स्रोत, प्रतिरोध के संसाधन

राजनीति का आम सहजबोध यह है कि सत्ता की निरंकुशता लोकतंत्र का निषेध है। लोकतंत्र राजनीतिक सत्ता का गठन तो करता है, लेकिन उसे निरंकुश नहीं होने देता। यदि किसी लोकतांत्रिक व्यवस्था के अंतर्गत निरंकुश सत्ता का उद्भव होता है तो...

फासीवाद को सबसे बड़ा खतरा कला से लगता है

कलाकार (कवि, फिल्म लेखक, संगीतकार, आर्ट एक्टिविस्ट) मयंक मुंबई से दिल्ली तक एनआरसी-सीएए-एनपीआर के खिलाफ़ देशभर में चल रहे जनांदोलन में अपनी कला के जरिए प्रतिरोध को अलग ही मुकाम दे रहे हैं। जनचौक के लिए सुशील मानव से...

‘उनकी’ पहचान कपड़ों से नहीं उनके विचारों से होगी

उनकी पहचान कपड़ों से नहीं उनके विचारों से होती है। वे उदारवाद का मुखौटा लगाकर आपके आसपास मंडराते हैं। वे बढ़-चढ़कर देश के विकास की बातें करेंगे मगर किसी भी तरह के विरोध और प्रतिरोध पर वे नाक-भौं सिकोड़ते...

Latest News

राहुल गांधी नहीं, देश के लोकतंत्र पर हमला है: दीपांकर भट्टाचार्य 

राहुल गांधी की संसद सदस्यता रद्द करने का बाद विपक्ष एकजुट हो गया है। सभी विपक्षी पार्टियों ने इसका...