Monday, January 24, 2022

Add News

गुजरात दंगों के दाग मिटाने में सहयोग करने वालों को ऊंचे पदों से नवाजा गया, सिब्बल ने कोर्ट में उड़ाई धज्जियां

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने उच्चतम न्यायालय में उन सभी वरिष्ठ अधिकारियों को नंगा कर दिया जिन्होंने गुजरात दंगों में गुजरात की तत्कालीन मोदी सरकार के जघन्य कारनामों को दबाने में मदद की, नरेंद्र मोदी को कानून के चंगुल से बचाया और बदले में ऊंचे-ऊंचे पद हासिल किए। उच्चतम न्यायालय भले ही तकनीकी आधार पर कांग्रेस सांसद एहसान जाफरी, जिन्हें गुजरात दंगों में जिंदा जलाकर मार डाला गया था, की विधवा जाकिया जाफरी की याचिका को खारिज कर दे पर जिस तरह उनके वकील कपिल सिब्बल ने व्यवस्था को उच्चतम न्यायालय के सामने धोया है उसे आपराधिक न्यायिक इतिहास में हमेशा याद रखा जाएगा। यह मामला ऐसा है जिसमें राजसत्ता ने खुलकर आपराधिक गतिविधियों को निर्बाध चलने दिया और आज़ादी के बाद देश में राज्य प्रायोजित नरसंहार की मिसाल पेश की।

गुजरात दंगों के मामले में गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य उच्च पदाधिकारियों को विशेष जांच दल (एसआईटी) द्वारा दी गई क्लीन चिट के खिलाफ जकिया जाफरी की याचिका पर बहस करते हुए वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने उच्चतम न्यायालय में कहा कि एसआईटी प्रमुख आरके राघवन को बाद में उच्चायुक्त नियुक्त किया गए। सिब्बल ने न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर, न्यायमूर्ति दिनेश माहेश्वरी और न्यायमूर्ति सीटी रविकुमार की पीठ के समक्ष सप्रमाण आरोप लगाया कि गुजरात दंगों में उन सभी सहयोगी अधिकारियों को बाद में ऊंचे पद देकर पुरष्कृत किया गया ।

एसआईटी के प्रमुख सीबीआई के पूर्व निदेशक आरके राघवन को अगस्त 2017 में साइप्रस का उच्चायुक्त नियुक्त किया गया। सिब्बल ने यह भी उल्लेख किया कि अहमदाबाद के तत्कालीन पुलिस आयुक्त पीसी पांडे, जो शुरू में मामले के आरोपी थे, बाद में गुजरात के डीजीपी बने। उन्होंने कहा कि आरोपी से डीजीपी तक का सफर निराशाजनक है। सुनवाई के चौथे दिन सिब्बल ने एसआईटी की मिलीभगत के बारे में विस्तार से बताया।

उन्होंने कहा कि यदि आप एक संभावित आरोपी के बयान को स्वीकार करते हैं, तो अगर कोई जांच नहीं होती है तब आपकी विशेष जांच टीम केवल “एसआईटी” है। यह केवल बैठी रही। यह याद दिलाते हुए कि एसआईटी का गठन उच्चतम न्यायालय द्वारा राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग द्वारा स्थानीय पुलिस में विश्वास की कमी व्यक्त करने के बाद किया गया था, सिब्बल ने कहा कि एसआईटी के निष्कर्ष तथ्यों के विपरीत थे। उन्होंने कहा कि 27 फरवरी को ही हिंसा शुरू हो गई थी, लेकिन एसआईटी का निष्कर्ष यह था कि कोई हिंसा या आगजनी नहीं हुई थी।

सिब्बल ने कहा कि एसआईटी ने इस बात की जांच नहीं की कि अहमदाबाद के तत्कालीन पुलिस आयुक्त ने यह क्यों कहा कि अंतिम संस्कार शांतिपूर्ण हुआ था, जबकि इसके विपरीत तथ्य थे। सिब्बल ने कहा कि आयुक्त क्या कर रहा था और क्यों कर रहा था। आयुक्त क्या कर रहा था यह हम जानते हैं, लेकिन हम यह नहीं जानते कि क्यों कर रहा था। इसकी जांच होनी थी। वह दिन भर अपने कार्यालय में बैठा था, वह कुछ नहीं कर रहा था। वे पूरे समय कार्यालय में थे , बाहर नहीं गए और आरोपी के साथ तीन बार बातचीत की। यह निंदनीय है। एसआईटी ने इसकी कोई जांच नहीं की है। एक आरोपी के रूप में वह (पांडे) गुजरात के डीजीपी बने। आरोपी से डीजीपी तक का सफर थोड़ा विचलित करने वाला है। उसने कहा कि वह कुछ नहीं जानता।

विहिप के लोग लोक अभियोजकों के पास ले जा रहे थे और लोक अभियोजक इस तरह की बातचीत को स्वीकार कर रहे थे, लेकिन एसआईटी ने उन पहलुओं की जांच नहीं की। सिब्बल ने जोर देकर कहा, एसआईटी ने अपना काम नहीं किया। यह एक जांच नहीं बल्कि एक सहयोगी अभ्यास था। मुझे व्यक्तियों से कोई सरोकार नहीं है, मैं प्रक्रिया से चिंतित हूं। यह सुरक्षा का कार्य है, जांच के लिए प्रतिबद्धता नहीं है।

कपिल सिब्बल ने गुजरात दंगों की साजिश के मामले में यह दिखाने के लिए कि एसआईटी ने उचित जांच नहीं की थी, उच्चतम न्यायालय को बताया कि एसआईटी ने नरोदा से भाजपा की पूर्व विधायक माया कोडनानी को बरी करने के गुजरात हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती नहीं दी है, जबकि उन्हें निचली अदालत ने 2002 के नरोदा पाटिया नरसंहार में ‘किंगपिन’ के रूप में पहचाना था। जब सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त एसआईटी ने गुजरात में दंगों के मामलों की जांच अपने हाथ में ली थी, उस समय कोडनानी को मामले में एक प्रमुख आरोपी के रूप में नामित किया गया था।

एसआईटी के अनुसार 28 फरवरी, 2002 को गोधरा में साबरमती एक्सप्रेस में आग लगने के एक दिन बाद जब विश्व हिंदू परिषद (विहिप) द्वारा बुलाए गए बंद को लागू कराने के लिए भीड़ जमा हुई थी, उस समय कोडनानी ने, विहिप के गुजरात सचिव जयदीप पटेल के साथ भीड़ को भड़काने के इरादे से हेट स्पीच दी थी। घटना के 11 चश्मदीद थे। मुकदमे में विशेष अदालत ने पाया कि हिंसा की भयावहता काफी हद तक कोडनानी के कारण थी। अदालत ने उन्हें 28 साल की कैद की सजा सुनाते हुए कहा कि उन्होंने बंद के उद्देश्य से जमा हुई भीड़ को भड़काने में अहम भूमिका निभाई थी।

कोडनानी की सह-षड्यंत्रकारियों को अपराध के लिए उकसाने और साजिश को अंजाम देने के लिए गैरकानूनी भीड़ को जमा करने का उत्तरदायी ठहराया गया था। 2012 में विशेष अदालत ने उन्हें दोषी ठहराया था, जिसके बाद 32 दोषियों ने गुजरात हाईकोर्ट में अपील की थी, जिनमें कोडनानी भी एक थीं। उनकी अपील पर लगभग छह रेक्यूजल देखे गए थे। 2014 में गुजरात हाईकोर्ट ने बीमारी के आधार पर उन्हें जमानत दे दी और उनकी सजा को निलंबित कर दिया गया। बाद में 2018 में यह देखते हुए कि 11 गवाहों के बयानों में विसंगतियां उनके अपराध को निर्णायक रूप से स्थापित करने में विफल रहीं, हाईकोर्ट ने कोडनानी को बरी कर दिया। कोर्ट ने इस तथ्य पर भी ध्यान दिया कि एसआईटी के सामने आने के बाद ही उसका नाम दंगों से जुड़ा।

कोडनानी को बरी करते हुए हाईकोर्ट ने कहा था कि डॉ. मायाबेन सुरेंद्रभाई कोडनानी, जो मूल रूप से 2009 के सेसंस केस नंबर.243 की अभियुक्त संख्या 37 हैं, को उन अपराधों से बरी किया जाता है, जिन पर उन्हें संदेह का लाभ देकर आरोपित किया गया था।

हाईकोर्ट के आदेश को चुनौती नहीं देने के एसआईटी के राजनीतिक महत्व पर इशारा करते हुए सिब्बल ने टिप्पणी की कि आखिर इससे क्या सिद्ध होता है!

वह कांग्रेस नेता एहसान जाफरी की विधवा जकिया जाफरी की याचिका पर बहस कर रहे थे, जो 2002 के दंगों के दौरान गुलबर्ग सोसाइटी नरसंहार में मारे गए थे। उन्होंने दंगों के पीछे की बड़ी साजिश में गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी और राज्य के अन्य उच्च पदाधिकारियों को एसआईटी द्वारा दी गई क्लीन चिट के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। सिब्बल ने यह भी बताया कि 2002 के दंगों के समय, विहिप से संबद्ध अधिवक्ताओं को लोक अभियोजक के रूप में नियुक्त किया गया था। उन्होंने 17मई 2010 की एसआईटी रिपोर्ट को पढ़कर सुनाया, “ऐसा प्रतीत होता है कि लोक अभियोजकों की नियुक्ति के लिए अधिवक्ताओं की राजनीतिक संबद्धता सरकार के लिए मायने रखती थी”।

इन नियुक्तियों ने अंततः विहिप और अन्य संबद्ध दलों के सदस्यों को जमानत पाने में मदद की, क्योंकि लोक अभियोजक ने जानबूझकर जमानत आवेदनों का विरोध नहीं किया। हालांकि एसआईटी ने अपनी रिपोर्ट में टिप्पणियां की थीं, लेकिन दंगा मामलों के संबंध में लोक अभियोजकों की नियुक्तियों की कोई जांच नहीं हुई। उन्होंने तर्क दिया कि एसआईटी ने जांच में “जानबूझकर कमियां” छोड़ी और दोषियों को पकड़ने के लिए कोई गंभीर प्रयास नहीं किए गए। सिब्बल ने तर्क दिया कि एसआईटी ने किसी भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया, उनके बयान दर्ज नहीं किए, उनके फोन जब्त नहीं किए, या घटना स्‍थल का दौरा नहीं किया।

उन्होंने इस बात पर प्रकाश डाला कि एसआईटी ने तहलका पत्रिका द्वारा किए गए स्टिंग ऑपरेशन के टेपों को नजरअंदाज कर दिया, जिसमें कई लोगों ने हथियारों और बमों को जुटाने और हिंसा में अपनी भागीदारी के बारे में खुले बयान दिए थे। हालांकि नरोदा पाटिया मामले में दोषसिद्धि के लिए उन्हीं टेपों का इस्तेमाल किया गया था और गुजरात हाईकोर्ट ने टेप की प्रामाणिकता का समर्थन किया था, लेकिन एसआईटी ने जकिया जाफरी की शिकायत में उनकी अनदेखी की।

सिब्बल ने प्रस्तुत किया कि एसआईटी ने स्टिंग टेप में व्यक्तियों के फोन भी जब्त नहीं किए और उनके कॉल डेटा रिकॉर्ड एकत्र नहीं किए। सिब्बल ने इस बात पर प्रकाश डाला कि एसआईटी ने गुजरात के तत्कालीन एडीजीपी आरबी श्रीकुमार आईपीएस की गवाही को इस आधार पर खारिज कर दिया कि वह पदोन्नति से इनकार करने के कारण बयान दे रहे थे। सिब्बल ने कहा कि उनकी (श्रीकुमार) गवाही की पुष्टि अन्य अधिकारियों ने की थी और इसलिए इसे खारिज नहीं किया जा सकता था।

सिब्बल ने यह भी कहा कि पुलिस और प्रशासन की मिलीभगत की ओर इशारा करने वाले कारक थे, जिन्हें एसआईटी ने नजरअंदाज कर दिया। सिब्बल ने कहा कि गोधरा में तुरंत कर्फ्यू घोषित कर दिया गया..लेकिन अहमदाबाद में 12 बजे तक कर्फ्यू घोषित नहीं किया गया था और सुबह 7 बजे तक हजारों लोग इकट्ठा हो गए थे। वे स्वयं सेवक थे। उन्हें संदेश किसने दिया? कोई भी पुलिस अधिकारी तुरंत कर्फ्यू घोषित कर सकता था, ताकि हिंसा से बचा जा सके।

(जेपी सिंह वरिष्ठ पत्रकार होने के साथ कानूनी मामलों के जानकार हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

कैराना में सांप्रदायिकता का जहर फैलाने की शाह ने थामी कमान!

2013 में सांप्रदायिक दंगे का दर्द झेलने वाला मुज़फ़्फ़रनगर जिले से सटे शामली जिले की कैराना विधानसभा एक बार...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -