पुण्यतिथिः शिवसेना की धमकी के आगे नहीं झुके एके हंगल, फिल्में रोक दी गईं तो करने लगे थे टेलरिंग

Estimated read time 1 min read

एके हंगल के नाम का जैसे ही तसव्वुर करो, तुरंत हमारी आंखों के सामने एक ऐसी शख्सियत आ जाती है जो सौम्य, शिष्ट, सहृदय, सभ्य, गरिमामय, हंसमुख है और इस सबसे बढ़कर एक अच्छा इंसान। भला आदमी! हिंदी सिनेमा का भला आदमी। 26 अगस्त, चरित्र अभिनेता एके हंगल की आठवीं पुण्यतिथि है।

तकरीबन आधी सदी तक हिंदी फिल्मों में लगातार भले मानुष का किरदार निभाने वाले हंगल आज भले ही हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन उनके द्वारा की गई 200 से ज्यादा फिल्में, हिंदी रंगमंच, भारतीय जन नाट्य संघ (इप्टा) और देश की आजादी में किया गया काम, उनकी याद दिलाता है। अविभाजित भारत के सियालकोट (जो कि अब पाकिस्तान में है) में 1 फरवरी, 1914 में जन्मे अवतार विनीत कृष्ण हंगल उर्फ एके हंगल की शुरुआती जिंदगी, काफी मुसीबतों भरी रही। उनका बचपन और पूरी जवानी संघर्ष में गुजरी।

उन्हें बचपन से ही संगीत और नाटक का शौक था। इसके लिए उन्होंने बाकायदा उस्ताद खुदाबख्श से संगीत और महाराज बिशिनदास से तबला बजाने का हुनर सीखा। उनके घर के बगल में ही संगीत और नाटक का एक क्लब ‘श्री संगीत मंडल’ था। इसके वे सदस्य बन गए।

1938 या 1939 के दरमियानी साल में उन्होंने अपना पहला नाटक ‘जुल्म-ए-कंस’ खेला, जो कि उर्दू में था। इस नाटक में उन्होंने ‘नारद’ की भूमिका निभाई और कुछ गाने भी गाए। आगे चलकर उन्होंने ‘हार्मोनिका’ क्लब बनाया, जो जल्द ही पूरे कराची शहर में मशहूर हो गया। हंगल प्रत्येक बुधवार को क्लब में संगीत सभाएं आयोजित करते।

इन सभाओं में बड़े गुलाम अली, छोटे गुलाम अली जैसे बड़े कलाकार शामिल होते। इसी दौरान उन्होंने अपना पहला नाटक ‘प्रायश्चित’ लिखा। जो महात्मा गांधी द्वारा छुआछूत के खिलाफ चलाई गई मुहिम से प्रेरित था। स्वाभाविक है कि नाटक में उन्होंने अभिनय भी किया और यहीं से उनका अभिनय में लगाव बढ़ता चला गया।

हंगल स्कूली दिनों से ही नाटक के अलावा क्रांतिकारी कार्यों में भी हिस्सा लेने लगे थे। पेशावर में किस्साख्वानी बाजार में अंग्रेजों ने जो नरसंहार किया, वे उसके चश्मदीद गवाह थे। उन्होंने भी इस नरसंहार के प्रतिरोध में अंग्रेजों पर भीड़ से पत्थर बरसाए थे। यही नहीं, क्रांतिकारी भगत सिंह और उनके साथी सुखदेव तथा राजगुरु की शहादत का भी किशोर हंगल के दिलो-दिमाग पर गहरा असर पड़ा। इन क्रांतिकारियों को बचाने के लिए उस वक्त वायसराय को दिए गए, मर्सी पिटीशन पर हस्ताक्षर करने वालों में वे भी शामिल थे।

बहरहाल बचपन में घटी इन घटनाओं का हंगल के पूरे जीवन पर बड़ा प्रभाव रहा। अपनी जिंदगी के आखिर तक वे बराबर शोषण, अत्याचार और असमानता के खिलाफ लड़ते रहे। उन्हें फिल्मी कलाकार के रूप में जानने वाले ज्यादातर लोगों को शायद ही यह बात मालूम हो कि एके हंगल भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ता भी थे।

आजादी के पहले से ही उन्होंने पार्टी और यूनियनों की गतिविधियों में भाग लेना शुरू कर दिया था। इन गतिविधियों का ही नतीजा था कि आजादी के बाद उन्हें पाकिस्तान की जेलों में रहना पड़ा। पाकिस्तानी जेलों में दो साल काटने के बाद साल 1949 में वे हमेशा के लिए भारत आ गए। मायानगरी मुंबई को उन्होंने अपनी कर्मस्थली के रूप में चुना और अपने परिवार के जीवनयापन के लिए टेलरिंग शुरू कर दी।

भारत आने के बाद भी एके हंगल का पार्टी और यूनियनों की राजनीति से लगाव नहीं छूटा। वे बंबई की चालों में कई साल तक रहे। चाल में रहने वाले किरायेदारों की समस्याओं से जब उनका साबका पड़ा, तो इनसे निपटने के लिए उन्होंने किरायेदारों का एक संघ बनाया। बाद में वे दर्जियों के अधिकारों की लड़ाई में कूद गए।

उन्होंने बंबई में ‘टेलरिंग वर्कर्स यूनियन’ का गठन किया और उनकी लड़ाई लड़ी। जब संयुक्त महाराष्ट्र आंदोलन की शुरुआत हुई, तो उन्होंने आचार्य अत्रे, कॉमरेड एसएम जोशी, कॉमरेड एसए डांगे, एनजी गोरे जैसे शीर्षस्थ नेताओं के साथ इस आंदोलन में हिस्सेदारी की। वे गोवा मुक्ति आंदोलनकारियों में भी शामिल रहे।

बाहर से हमेशा शांत और सहज दिखलाई देने वाले हंगल, अंदर से पूरे आंदोलनकारी थे। जहां भी कहीं कुछ गलत होता, वे उसके खिलाफ आवाज जरूर उठाते। उनका आत्मबल कितना मजबूत था, उसे सिर्फ एक उदाहरण से जाना जा सकता है। अभिनय सम्राट दिलीप कुमार को जब पाकिस्तानी सरकार ने अपने सर्वोच्च सम्मान ‘निशान-ए-इम्तियाज’ देने का एलान किया, तो शिवसेना ने इसका पुरजोर विरोध किया।

पार्टी के सुप्रीमो बाल ठाकरे ने दिलीप कुमार से कहा कि वे यह सम्मान लेने पाकिस्तान नहीं जाएं। बाल ठाकरे के इस फरमान से पूरी फिल्मी दुनिया को सांप सूंघ गया। ऐसे माहौल में अकेले एके हंगल ही थे, जो दिलीप कुमार की हिमायत में खुलकर सामने आए और उन्होंने स्पष्ट तौर पर कहा, ‘‘दिलीप कुमार को यह सम्मान लेने पाकिस्तान जरूर जाना चाहिए। इससे भारत और पाकिस्तान के बीच संबंधों में मधुरता आएगी।’’

इस बयान के बाद दिलीप कुमार के साथ हंगल भी शिवसेना के निशाने पर आ गए। बाल ठाकरे ने फतवा जारी कर दिया कि एके हंगल को फिल्मों में कोई काम न दे। इस फतवे का असर यह हुआ कि हंगल को काम मिलना बंद हो गया। फिल्मों में अघोषित पाबंदी का यह सिलसिला कोई दो साल तक चला। फिल्मों में काम मिलना बंद हुआ, तो वे फिर से टेलरिंग करने लगे, पर नाइंसाफी के आगे बिलकुल नहीं झुके।

आजादी के बाद जब ‘भारतीय जन नाट्य’ संघ यानी इप्टा लगभग टूट रहा था, तब वे हंगल ही थे, जिन्होंने इप्टा को पुनर्जीवन दिया। आरएम सिंह और रामाराव जैसे साथियों को साथ लेकर उन्होंने इप्टा को फिर खड़ा किया। एके हंगल ने उन सभी कलाकारों से संपर्क स्थापित किया, जिन्होंने विभिन्न कारणों से इप्टा छोड़ दी थी।

उनकी कोशिशें रंग लाईं और इप्टा एक बार फिर पहले की तरह काम करने लगा। देखते-देखते कवि शैलेंद्र, संगीतकार सलिल चौधरी, केएन घोष, बलराज साहनी, रमेश तलवार, सागर सरहदी, एमएस0 सथ्यु, शमा जैदी, राजी सेठी, नितिन सेठी, शशि शर्मा, मोहन शर्मा जैसे प्रतिभाशाली कलाकार इप्टा से जुड़ गए।

हंगल ने आगे चलकर इप्टा के कई नाटकों में निर्देशन व अभिनय किया। इप्टा में वे इस कदर रम गए कि उन्होंने अपने आप को पूरी तरह से नाटकों में डुबो लिया। ‘बाबू’, ‘इनामदार’, ‘अफ्रीका जवान परेशान’, ‘इलेक्शन का टिकिट’, ‘आजर का ख्वाब’, ‘अतीत की परछाईंया’, ‘जवाबी हमला’, ‘सूरज’, ‘मुसाफिरों के लिए’, ‘भगत सिंह’, ‘आखिरी शमां’ आदि चर्चित नाटकों में उन्होंने अभिनय किया।

रंगमंच से उनके अभिनय की लोकप्रियता धीरे-धीरे फिल्मी दुनिया तक पहुंची। साल 1962 में बासु भट्टाचार्य ने अपनी फिल्म ‘तीसरी कसम’ में उन्हें एक छोटी सी भूमिका दी और इस फिल्म के साथ ही उनका फिल्मी करियर शुरू हो गया। अपने फिल्मी करियर में एके हंगल ने ख्वाजा अहमद अब्बास, एमएस सथ्यु, ऋषिकेश मुखर्जी, राज कपूर, देवानंद, गुलजार, रमेश सिप्पी और के बालाचन्दर जैसे प्रतिभाशाली और प्रयोगशील निर्देशकों के साथ काम किया। इनकी फिल्मों में उन्होंने कई यादगार किरदार निभाए। ‘शोले’, ‘सुराज’, ‘शौकीन’, ‘नमक हराम’, ‘गुड्डी’, ‘परिचय’, ‘आंधी’, ‘गरम हवा’, ‘एक चादर मैली सी’, ‘अभिमान’, ‘कोरा कागज’, ‘सागर’, इश्क-इश्क-इश्क, ‘बावर्ची’, ‘जुर्माना’, ‘नौकरी’ और ‘माउंटबेटन-अंतिम वायसराय’ उनकी उल्लेखनीय फिल्में हैं।

स्टार अदाकारों से सजी इन फिल्मों में एके हंगल ने अपनी अदाकारी से एक अलग ही छाप छोड़ी। फिल्म ‘शोले’ में निभाया उनका नेत्रहीन ‘रहीम चाचा’ का किरदार, तो हिंदी सिनेमा का कालजयी किरदार है। फिल्मी दुनिया में एके हंगल ने एक्टिंग की एक जुदा राह अपनाई। उनका झुकाव यथार्थवादी अभिनय की ओर था। फिल्मों में यथार्थवादी अभिनय के लिए उन्होंने अनवीक्षा तथा विभ्रम पद्धति का सहारा लिया, जो कि आगे चलकर बहुत कामयाब हुई।

उनका कहना था कि ‘‘एक अच्छे कलाकार को अभिनय में अपने दिमाग का इस्तेमाल करना आना चाहिए। अंधे व्यक्ति के किरदार में अगर हम आंखों की महत्ता नहीं समझेंगे, तब तक अंधे की साइकोलॉजी को भी नहीं समझ पाएंगे। फिर एक बार यदि किसी किरदार की साइकोलॉजी समझ ली, तो समझो कलाकार के अभिनय में स्वाभाविकता अपने आप आ जाएगी।’’

एके हंगल की यह बात फिल्म ‘शोले’ देखकर आसानी से समझी जा सकती है। इस फिल्म में उनका किरदार न सिर्फ अपनी आंखे ढूंढता है, बल्कि डायलॉग भी ढूंढता है। गोया कि एक्टिंग में डबल एक्शन क्या होता है? एके हंगल ने अपनी अदाकारी से यह हमें बतलाया।

अपनी एक्टिंग के बारे में खुद एके हंगल का कहना था, ‘‘मैं एक्टिंग के अंदर डायलॉग याद नहीं करता, बल्कि डायलॉग के बीच में जो खाली गैप होता है, उसे महसूस करता हूं। लेखक के मन में डायलॉग लिखते समय क्या बात है और वह अपने किरदार से क्या करवाना चाहता है? यह बात नोट करता हूं। मैं लेखक की सोच को अभिव्यक्त करने की कोशिश करता हूं। यही मेरी एक्टिंग का स्टाईल है।’’

एके हंगल की पूरी अभिनय यात्रा को यदि देखें, तो अभिनय में उनका विस्तृत अनुभव साफ दिखलाई देता है। जिंदगी की पाठशाला से जो कुछ उन्होंने सीखा, उसका इस्तेमाल अपने नाटकों और फिल्मों में किया। इसलिए उनकी एक्टिंग दूसरे अभिनेताओं के बनिस्बत ज्यादा स्वाभाविक और सहज दिखाई देती है। फिल्मों में काम करने के दौरान भी वे बराबर रंगमंच करते रहे। रंगमंच से जुड़े होने के कारण हंगल के अभिनय में सहजता थी। इसकी वजह से वे हर किरदार में आसानी से ढल जाया करते थे।

वे इप्टा के नाटकों में मुसलसल काम करते रहे। इप्टा के सांगठनिक कार्यों में भी वे बढ़-चढ़कर हिस्सा लेते थे। उन्होंने इप्टा में कई सांगठनिक पदों पर काम किया। अपने अंतिम समय में भी वे इप्टा के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे। उनके नेतृत्व में मुंबई इप्टा एक महत्वपूर्ण गैर व्यावसायिक रंगमंचीय दल के रूप में उभरा। स्वतंत्रता आंदोलन, रंगमंच और फिल्मों में एके हंगल के विशिष्ट योगदान को देखते हुए भारत सरकार ने उन्हें साल 2006 में ‘पद्म भूषण’ सम्मान से सम्मानित किया। 26 अगस्त, 2012 को 97 साल की उम्र में एके हंगल ने इस दुनिया से अपनी आखिरी विदाई ली।

(मध्यप्रदेश निवासी लेखक-पत्रकार जाहिद खान, ‘आजाद हिंदुस्तान में मुसलमान’ और ‘तरक्कीपसंद तहरीक के हमसफर’ समेत पांच किताबों के लेखक हैं।)

You May Also Like

More From Author

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments