Subscribe for notification
Categories: बीच बहस

संघ-भाजपा को अब सेक्युलरिज़्म की चिंता क्यों सताने लगी!

संघ और भाजपा के कट्टर समर्थकों को भले ही सांप सूंघ गया हो पर उनके प्रच्छन्न समर्थक खामोश नहीं हैं। बहुत से प्रच्छन्न समर्थक शिव सेना और कांग्रेस के साथ आने पर व्यंग्य करते हुए ऐसी टिप्पणियां कर रहे हैं कि सेक्युलरिज़्म की इस जीत पर नेहरू और बाला साहेब ठाकरे साथ-साथ खुश होंगे!

बेशक विचारों की दृष्टि से महाराष्ट्र का गठबंधन एक बेमेल गठबंधन है, लेकिन यह बात क्या ऐसे लोगों की जुबान से अच्छी लगती है, जिन्होंने बिहार में जदयू-भाजपा गठबंधन और कश्मीर में पीडीपी-भाजपा के स्वागत में पलक पांवड़े बिछा दिए?

इससे भी महत्वपूर्ण सवाल यह है कि रात के अंधेरे में जिस तरह लोकतंत्र और संवैधानिक उसूलों पर डाका डाल उसकी हत्या करते हुए फडणवीस को शपथ दिला दी गई, उसे किसी भी कोने से जायज़ ठहराया जा सकता था? इसलिए महाराष्ट्र का मौजूदा गठबंधन कितना लंबा चलता है, यह सवाल फ़िलहाल गौण है, लेकिन 26 नवंबर का दिन वाक़ई इस अर्थ में एक ऐतिहासिक दिन बन गया कि झूठ-फरेब, छल-कपट और धनबल के ऊपर संविधान और लोकतांत्रिक मूल्यों की जीत हुई!

महाराष्ट्र का नया गठबंधन विरोधाभासों का ही गठबंधन है और संक्रमणकालीन राजनीति के दौर में ऐसे बेमेल गठजोड़ बनते रहे हैं। स्वाधीनता आंदोलन के दौरान की कांग्रेस तो वैसे भी तमाम अंतर्विरोधों की एकता से ही बनी थी। राजनीति में रुचि रखने वालों को यह याद होगा कि 82-83 के दौरान असम में नरसंहार के विरुद्ध आंदोलन में आईपीएफ (सीपीआई-एमएल का खुला मोर्चा) और भाजपा ने इंदिरा निरंकुशता के खिलाफ हाथ मिलाया था। यह अलग बात है कि वह कुछ दिनों का ही साथ था। इमरजेंसी के दौरान बना गठबंधन तो सभी को याद होगा।

संसदीय लोकतंत्र ही जब खतरे में हो तो बहुत से ऐसे गठबंधन देखने को मिल सकते हैं! दरअसल भारत मे लोकतंत्र और लोकतांत्रिक चेतना अभी बौद्धिक स्तर पर अपने शैशव काल में ही है। वास्तविक जनतांत्रिक संघर्षों के दौरान ही लोकतांत्रिक चेतना का उदात्त और परिपक्व विकास भी मुमकिन है और इसी प्रक्रिया में वास्तविक राजनीतिक शक्तियों के विकास का भी रास्ता बनता है। शायद इस प्रक्रिया को अभी लंबे दौर से गुजरना है। विचार और शुचिता की राजनीति कोई शून्य से तो नहीं पैदा होने वाली! इसलिए भारतीय जन को अभी सत्ता की राजनीति के विविध रूप-रंगों के दर्शन होते ही रहेंगे! भूमंडलीकरण और उदारीकरण के इस हिंसक संक्रमण काल में अभी शायद वह बहुत कुछ अनपेक्षित देखने को अभिशप्त रहेगी!

दया शंकर राय

(लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं।)

This post was last modified on November 27, 2019 1:47 pm

Janchowk

Janchowk Official Journalists in Delhi

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share
Published by

Recent Posts

मीडिया को सुप्रीम संदेश- किसी विशेष समुदाय को लक्षित नहीं किया जा सकता

उच्चतम न्यायालय ने सुदर्शन टीवी के सुनवाई के "यूपीएससी जिहाद” मामले की सुनवायी के दौरान…

44 mins ago

नौजवानों के बाद अब किसानों की बारी, 25 सितंबर को भारत बंद का आह्वान

नई दिल्ली। नौजवानों के बेरोजगार दिवस की सफलता से अब किसानों के भी हौसले बुलंद…

2 hours ago

योगी ने गाजियाबाद में दलित छात्रावास को डिटेंशन सेंटर में तब्दील करने के फैसले को वापस लिया

नई दिल्ली। यूपी के गाजियाबाद में डिटेंशन सेंटर बनाए जाने के फैसले से योगी सरकार…

4 hours ago

फेसबुक का हिटलर प्रेम!

जुकरबर्ग के फ़ासिज़्म से प्रेम का राज़ क्या है? हिटलर के प्रतिरोध की ऐतिहासिक तस्वीर…

5 hours ago

विनिवेश: शौरी तो महज मुखौटा थे, मलाई ‘दामाद’ और दूसरों ने खायी

एनडीए प्रथम सरकार के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने आरएसएस की निजीकरण की नीति के…

8 hours ago

वाजपेयी काल के विनिवेश का घड़ा फूटा, शौरी समेत 5 लोगों पर केस दर्ज़

अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में अलग बने विनिवेश (डिसइन्वेस्टमेंट) मंत्रालय ने कई बड़ी सरकारी…

8 hours ago