Estimated read time 1 min read
बीच बहस

बाबरी ध्वंस से राममंदिर: भारतीय राजनीति की बदलती दशा और दिशा

स्वाधीन होने के बाद भारत ने जो दिशा और राह चुनी, उसकी रूपरेखा जवाहरलाल नेहरु के ‘ट्रिस्ट विथ डेस्टिनी’ भाषण में थी। नेहरु ने कहा, [more…]

Estimated read time 2 min read
राजनीति

‘करगिल के खलनायक’ ने क्या सचमुच भारत-पाक शत्रुता को खत्म करना चाहा था?

पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति और अपने दौर के ‘सर्व-शक्तिमान’ परवेज मुशर्रफ का इंतकाल पाकिस्तान से बहुत दूर दुबई के एक अस्पताल में गत 5 फरवरी [more…]

Estimated read time 1 min read
ज़रूरी ख़बर

जवाहरलाल नेहरू से मोदी सरकार की यह खुन्नस संघ परिवार की बेचारगी का पता देती है

अंग्रेजी के प्रख्यात कवि एवं नाटककार विलियम शेक्सपियर भले ही कह गये हों कि नाम में क्या रखा है, गुलाब को चाहे जिस नाम से [more…]

Estimated read time 3 min read
बीच बहस

कांग्रेस: अंदर का कलह, बाहर की अपेक्षाएं

फरवरी-मार्च में संपन्न हुए पांच विधानसभा चुनावों में कांग्रेस के अति निराशाजनक प्रदर्शन के बाद पार्टी में आतंरिक कलह तेज़ हुआ है। दूसरी तरफ राजनीतिक [more…]

Estimated read time 2 min read
ज़रूरी ख़बर

राजस्थान में पुरानी पेंशन बहाली से नवउदारवाद के पैरोकारों में क्यों है, बेचैनी

अगले साल राज्य में होने वाले चुनावों के मद्देनज़र ही सही, राजस्थान सरकार ने इस बजट में जनवरी 2004 से नियुक्त सरकारी कर्मचारियों के लिए [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

गोवा की आजादीः क्या देरी के लिए नेहरू जिम्मेदार थे?

सन् 2014 के लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान मोदी-भाजपा जो बातें कहते थे उनमें से एक यह भी थी कि जनता ने कांग्रेस को 60 [more…]

Estimated read time 2 min read
बीच बहस

नेहरू के भाषणों के आइने में नरेंद्र मोदी की स्पीच

वैसे तो प्रधानमंत्री जी के संसद में दिए गए भाषण भी चुनावी भाषणों की भांति होते हैं और इनमें कटुता तथा व्यक्तिगत आक्षेपों की प्रचुरता [more…]

Estimated read time 1 min read
ज़रूरी ख़बर

कमंडल पर मंडल की राजनीति के शिकार हो गये रविशंकर प्रसाद

जो भी बिहार और झारखंड की राजनीति से थोड़ा भी परिचित है, उसे दो साल पहले राजद छोड़ कर भाजपा में आई अन्नपूर्णा देवी के [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

बनाने वालों को दुत्कारना मोदी की पुरानी फितरत

गुजरात दंगों के बाद तत्कालीन मुख़्यमंत्री और आज के देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि एक मौत के सौदागर की हो गई थी। यही [more…]

Estimated read time 2 min read
बीच बहस

देश में असहमति के प्रति बढ़ती असहनशीलता लोकतंत्र के लिए गंभीर खतरा

न सिर्फ देश का सर्वोच्च न्यायालय,अनेक उच्च न्यायालय,अनेक समाचार पत्र,संविधान एवं न्यायिक क्षेत्र के  अनेक विशेषज्ञ, यहां तक कि दुनिया के विभिन्न देशों की मानवाधिकार [more…]