Tuesday, July 5, 2022

brahmin

भारतीय समाज में व्याप्त जाति व्यवस्था के विरुध्द संघर्ष के सर्वश्रेष्ठ अगुआ हैं आंबेडकर

डॉ. भीमराव आंबेडकर एक बहुजन राजनीतिक नेता और एक बौद्ध पुनरुत्थानवादी होने के साथ-साथ, भारतीय संविधान के मुख्य वास्तुकार भी थे। आंबेडकर का जन्म एक गरीब अस्पृश्य परिवार में हुआ था। आंबेडकर ने अपना सारा जीवन हिंदू धर्म की...

सामाजिक न्याय: आज़ाद भारत में मनु के द्रोणाचार्य

मानव समाज में शोषण के अनेक रूप रहे हैं जिसमें अलग अलग तरीकों से एक इंसान दूसरे इंसान का शोषण करता रहा है। इन सब रूपों में मूलत: उत्पादन के साधनों और मानव श्रम से पैदा अतिरिक्त पर मिल्कियत...

किस करवट बैठेगा बसपा का हाथी?

बहुजन समाज पार्टी चुनाव के इवेंट मैनेजमेंट और मीडिया मैनेजमेंट से दूर रहकर शांति से चुनाव लड़ती है। मीडिया और मीडिया में पिटता पार्टियों का ढोल देख जनमत बनाने वाले बसपा को चुनावी लड़ाई से बाहर बता रहे हैं...

यूपी में ब्राह्मण वोटों पर सभी दलों की नज़र

यूपी के मुख्यमंत्रियों के दो काल हैं। पहला- ब्राह्मण काल, 1946 से 1989, यानी 39 साल। इसमें कुल 6 ब्राह्मण CM बने और 20 साल तक UP को चलाया। दूसरा- ब्राह्मण शून्य काल, 1989-2021, यानी 31 साल। इसमें एक...

किसान आंदोलन: ब्राह्मण धर्म से बगावत के संकेत

अक्सर भारतीय जनमानस में यह चर्चा दिमाग मे बिठाने की कोशिश की जाती रही है कि अत्याचारों के डर से बड़े स्तर पर लोगों ने धर्म परिवर्तन किये थे। भारत की नौकरी वाली किताबों की पाठक पीढ़ी को सेलेबस...

ग्राउंड रिपोर्ट: हरियाणा के ककराणा में दलितों के मंदिर में प्रवेश को लेकर बवाल

हरियाणा के रोहतक जिले का एक गांव ककराणा, जो रोहतक की दक्षिण दिशा में 11 किलोमीटर की दूरी पर कलानौर तहसील का हिस्सा है। ककराणा गांव की, देश की राजधानी नई दिल्ली से दूरी महज 70 किलोमीटर और नेशनल...

सीपी कमेंट्री: संघ के सिर चढ़कर बोलता अल्पसंख्यकों की आबादी के भूत का सच!

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का स्वघोषित मूल संगठन, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघ-चालक ( प्रमुख ) डॉक्टर मोहन भागवत ने इसके 93वें स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में नागपुर स्थित मुख्यालय के प्रांगण...

उत्तराखंड डायरी-2: उत्तराखंडी राजनीति का ‘बाम्हन-ठाकुर फ्रेम’और पचपन फीसदी सबाल्टर्न आबादी

तीन-चार दिनों के उत्तराखंड-प्रवास में राजनीतिक दलों के नेताओं से मिलने की बजाय मैंने समाज के कुछ जागरूक और सक्रिय लोगों से मुलाकात पर ज्यादा जोर दिया। एक पत्रकार के लिए यह कोई अच्छा फैसला नहीं था। वह भी...

खास रिपोर्ट: आदिवासी, मुस्लिम, दलित व पिछड़ी जातियों के मतदाताओं को साधने अकेले ही निकल पड़ी है कांग्रेस

इलाहाबाद। बुधवार 8 सितंबर की सुबह फूलपुर विधानसभा से कांग्रेस के भावी प्रत्याशी अशफ़ाक अहमद को लेकर मेरे इलाके के एक ब्राह्मण देवराज उपाध्याय (वकील व ठेकेदार) लिवाकर घर आये। उनके साथ और भी दर्जनों लोग थे। जो कांग्रेस...

ब्राह्मण, दलित और मुस्लिम समीकरण के बल पर सत्ता तक पहुंचने की बीएसपी की कोशिश

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव में भले ही कुछ महीने शेष हों लेकिन चुनावी गतिविधियां पूरे जोर शोर से शुरू हो चुकी हैं। हर दल अपने लिये खास वर्ग समुदाय के मतदाता को साधने के साथ ही नये समीकरणों...
- Advertisement -spot_img

Latest News

उदयपुर, कश्मीर आरोपियों के भाजपा से रिश्तों पर इतनी हैरत किस लिए है?

उदयपुर में टेलर कन्हैयालाल की गला काटकर हत्या करते हुए खुद ही उसका वीडियो बनाने वाले  मोहम्मद रियाज अत्तारी के...
- Advertisement -spot_img