Subscribe for notification

बीच बहस

‘बिहार चुनाव’ के लिए की गयी ‘मोदी को किसानों का भगवान’ बनाने की ब्रॉन्डिंग

जो कोरोना से नहीं घबराये, प्रवासी मज़दूरों की दुर्दशा से बेचैन नहीं हुए, बेरोज़गारी और नौकरियाँ ख़त्म करने वाली महामारी…

3 weeks ago

हाथरस की आग बिहार पहुंचने पर ध्वस्त हो सकता है एनडीए का किला

हाथरस के क्रूर सामूहिक दुष्कर्म कांड ने बीजेपी की चिंताएं बढ़ा दी हैं। पार्टी को अब डर सताने लगा है…

3 weeks ago

एमनेस्टी को देश निकाला और सत्ताधारियों का फंड घोटाला

दुनिया भर में मानवाधिकारों पर काम करने वाली संस्था एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया को देश निकाला कोई छोटी ख़बर नहीं है।…

3 weeks ago

जस्टिस लिब्रहान ने कहा- पूरी साजिश से ढहाई गई थी बाबरी मस्जिद

बाबरी मस्जिद विध्वंस कांड में विशेष सीबीआई अदालत ने बुधवार को फैसला सुना दिया। कोर्ट ने अपने फैसले में मजबूत…

3 weeks ago

आलोचना पत्रिका के बहानेः बाजार और जंगल के नियम में कोई फर्क नहीं होता!

पांच दिन पहले ‘आलोचना’ पत्रिका का 62वां (अक्तूबर-दिसंबर 2019) अंक मिला। कोई विशेषांक नहीं, एक सामान्य अंक। आज के काल…

3 weeks ago

मंदिर बनने भर से विकास होता तो सासाराम भी होता ‘स्मार्ट सिटी’!

प्रधानमंत्री द्वारा जैसे ही अयोध्या में भूमि पूजन संपन्न हुआ वहां भव्य राम मंदिर के निर्माण का काम औपचारिक रूप…

3 weeks ago

अभी तक चौराहों पर क्यों नहीं लगे हाथरस गैंग रेप के आरोपियों के पोस्टर?

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री का मानना है कि अपराधियों का सामाजिक बहिष्कार करने से आपराधिक मामलों पर अंकुश लगाया जा…

3 weeks ago

रोने, चीखने या मोमबत्तियां जलाने से नहीं रुकेंगे बलात्कार!

('कानूनी अधिकारों' को जब जंग लग जाए, तो आंदोलन और संघर्ष की दरांती, गंडासा या खुकरी को 'विचारों की शान'…

3 weeks ago

जस्टिस अरुण मिश्रा के भूमि अधिग्रहण संबंधी फैसले पर चीफ जस्टिस ने उठाया सवाल

उच्चतम न्यायालय में तत्कालीन न्यायाधीश जस्टिस अरुण मिश्रा नीत संविधान पीठ के फैसले पर सवाल उठ खड़े हुए हैं। चीफ…

3 weeks ago

पाटलिपुत्र की जंग: दलों का तीसरा संगम बिगाड़ सकता है पहली दो धाराओं का खेल

बिहार का चुनावी तापमान पूरे शबाब पर है। एक तरफ जहां पार्टी अदलाबदली की कहानी तेज है, तो दूसरी तरफ सूबे की…

3 weeks ago