Subscribe for notification

संयुक्त राष्ट्र ने भी दिया सीएए मामले में दखल, सुप्रीम कोर्ट में दायर की याचिका

नई दिल्ली। एक महत्वपूर्ण घटनाक्रम में यूनाइटेड नेशन्स ह्यूमन राइट्स कमिश्नर (ओएचसीएचआर) ने सु्प्रीम कोर्ट में दायर विवादित सीएए एक्ट 2019 संबंधी मुकदमे में दखल याचिका दायर किया है। विदेश मंत्रालय ने यूएन बॉडी की इस पहल की आलोचना की है।

एमईए की ओर से जारी एक प्रेस रिलीज में मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा है कि जेनेवा में भारत के स्थाई मिशन को ओएचसीएचआर की ओर से सोमवार को यह सूचना दी गयी कि उसके दफ्तर ने सुप्रीम कोर्ट में एक दखल याचिका दायर की है।

विदेश मंत्रालय ने कहा कि नागरिकता कानून भारत का एक आंतरिक मामला है। और भारत की संसद को इस पर कानून बनाने का सार्वभौमकि अधिकार है।

प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि “हम इस बात में पूरी दृढ़ता के साथ विश्वास करते हैं कि किसी भी विदेशी पक्ष को भारत की सार्वभोमिकता के मामले में किसी भी तरह का हक नहीं है।” मिस मिशेल बैसेहेलेट जेरिया की तरफ से दायर की गयी दखल याचिका में कहा गया है कि यूएन बॉडी इसमें एमिकस क्यूरी के तौर पर हस्तक्षेप कर रही है। और यह उसे आदेश के जरिये हासिल है जिसमें कहा गया है कि “सभी तरह के मानवाधिकारों की रक्षा और उसे बढ़ावा देना और इसके लिए जरूरी वकालत भी करना……यूएन जनरल असेंबली के प्रस्ताव 48/141”

ओसीएचआर को इस बात का संज्ञान है कि सीएए से हजारों विदेशी प्रवासियों को फायदा होगा और यह कि इसका एक सराहनीय उद्देश्य है। आवेदन में इस बात को भी साफ किया गया है कि इसकी दखल को सुप्रीम कोर्ट के सामने याचिकाकर्ताओं द्वारा लगाए जा रहे आरोपों का कोई समर्थन है।

इसमें कहा गया है कि सीएए ने अंतरराष्ट्रीय ह्यूमन राइट्स लॉ के कुछ मसलों पर भी सवाल उठाए हैं। और उसका आवेदन प्रवासियों और खासकर शरणार्थियों से जुड़ा हुआ है।

याचिकाकर्ता ने कहा कि “अंतरराष्ट्रीय ह्यूमन राइट्स कानून के तहत राज्यों को अपने क्षेत्र के प्रवासियों का सम्मान करना चाहिए और इस बात को सुनिश्चित करना चाहिए कि अपने इलाके या अपने अधिकार क्षेत्र या प्रभावी नियंत्रण वाली जगह में बराबरी और गैरभेद-भाव का व्यवहार हो। और यह सब कुछ बगैर उनके वैधानिक स्टैटस और दस्तावेज जो उनके पास हैं, के आधार पर होना चाहिए।”

आपको बता दें कि इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में कुल 140 याचिकाएं दायर की गयी हैं। इनमें सीएए कानून को चुनौती दी गयी है। 22 जनवरी को सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से मामले में चार सप्ताह के भीतर जवाब देने का निर्देश दिया है। असल याचिका केरल सरकार द्वारा दायर की गयी है।

This post was last modified on March 3, 2020 10:11 pm

Janchowk

Janchowk Official Journalists in Delhi

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share
Published by

Recent Posts

सुदर्शन मामलाः एनबीए ने सुप्रीम कोर्ट से मान्यता देने की लगाई गुहार

उच्चतम न्यायालय में न्यूज ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन (एनबीए) ने प्रकारान्तर से मान लिया है कि वह…

3 mins ago

राज्यों को आर्थिक तौर पर कंगाल बनाने की केंद्र सरकार की रणनीति के निहितार्थ

संघ नियंत्रित भाजपा, नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में विभिन्न तरीकों से देश की विविधता एवं…

1 hour ago

अभी तो मश्के सितम कर रहे हैं अहले सितम, अभी तो देख रहे हैं वो आजमा के मुझे

इतवार के दिन (ऐसे मामलों में हमारी पुलिस इतवार को भी काम करती है) दिल्ली…

2 hours ago

किसानों और मोदी सरकार के बीच तकरार के मायने

किसान संकट अचानक नहीं पैदा हुआ। यह दशकों से कृषि के प्रति सरकारों की उपेक्षा…

3 hours ago

कांग्रेस समेत 12 दलों ने दिया उपसभापति हरिवंश के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस

कांग्रेस समेत 12 दलों ने उप सभापति हरिवंश के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस दिया…

12 hours ago

दिनदहाड़े सत्ता पक्ष ने हड़प लिया संसद

आज दिनदहाड़े संसद को हड़प लिया गया। उसकी अगुआई राज्य सभा के उपसभापति हरिवंश नारायण…

12 hours ago