Estimated read time 1 min read
ज़रूरी ख़बर

लॉ कमीशन के सूत्रों ने कहा- 2024 में नहीं होंगे राज्य और केंद्र के चुनाव एक साथ

0 comments

नई दिल्ली। लॉ कमीशन के सूत्रों के हवाले से आयी खबर में बताया जा रहा है कि केंद्र और राज्यों की विधानसभाओं के एक साथ [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

सांस्कृतिक राष्ट्रवाद नहीं, दंगाई राष्ट्रवाद

ये खुद भी घिनौने हैं। और पूरे देश और समाज को अपने सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के उसी घिनौने परनाले में ले जाकर गिरा देना चाहते हैं। [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

हिन्दू राष्ट्र का संविधान; निकलना भेड़ियों का अपनी मांद से 

इधर दिल्ली में लाल किले की प्राचीर से मोदी अपने भाषण में डॉ अम्बेडकर का नाम ले रहे थे, महिलाओं को अवसर देने के लिए [more…]

Estimated read time 2 min read
राजनीति

लाल किले से 83 मिनट के भाषण का सार “खाया पीया कुछ नहीं, गिलास फोड़ा आठ आने”

सरोज जी- जन कवि मुकुट बिहारी सरोज- की एक कविता की पंक्ति है; “शेष जिसमें कुछ नहीं ऐसी इबारत, ग्रन्थ के आकार में आने लगी है।” आज [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

कश्मीर फाइल्सः दो राष्ट्र के सिद्धांत और नाजीवाद का खतरनाक मिश्रण

एक बड़े शहर के मल्टीप्लेक्स में ‘कश्मीर फाइल्स’ देखने गया तो पहला अहसास यही हुआ कि देश की लोकतांत्रिक संस्थाओं तथा समाचार माध्यमों को निगल [more…]

Estimated read time 3 min read
बीच बहस

अकादमिक संस्थान, जिसमें बसती है मनुस्मृति की जेहनियत!

भारत विविधता व विषमता के लिहाज़ से दुनिया का सबसे अनूठा देश है। भारत का संविधान लागू होने के बाद इसे एक आधुनिक राष्ट्र बनना [more…]

Estimated read time 1 min read
राजनीति

आरजेडी सांसद मनोज झा का नेहरू जी को पत्र

मैं इन बातों को लिखने की सोच रहा हूं क्योंकि हर दिन आपके और आपके प्रिय विचारों के खिलाफ मिथ्या अभियान चलाए जाते हुए देखता [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

माफीनामों के वीर हैं सावरकर

सावरकर सन् 1911 से लेकर सन् 1923 तक अंग्रेज़ों से माफी मांगते रहे, उन्होंने छः माफीनामे लिखे और सन् 1923 के बाद वह लगातार ही [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

द्विराष्ट्र के सिद्धांत के जनक कौन- जिन्ना या सावरकर?

पिछले तीन चार वर्ष से वी डी सावरकर को प्रखर राष्ट्रवादी सिद्ध करने का एक अघोषित अभियान कतिपय इतिहासकारों द्वारा अकादमिक स्तर पर अघोषित रूप [more…]

Estimated read time 1 min read
बीच बहस

पेगासस गेट: घटती आजादी, सिमटता लोकतंत्र

पेगासस जासूसी मामला अप्रत्याशित नहीं है। सरकारों का (और विशेष रूप से हमारी वर्तमान सरकार का) यह स्वभाव रहा है कि वे अपनी रक्षा को [more…]